मोहब्बत ने गिरा दी सरहदों की दीवार- सात समंदर पार कर दुल्हन बनने गोरी मैम पहुंच गई पेरिस से बिहार , पढ़िये इश्क़ की ये अनोखी दास्तान…

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

बेगूसराय: फ्रांस के पेरिस में रहने वाली एक युवती सात समंदर पार कर भारत आई ताकि वह अपने इंडियन बॉयफ्रेंड के साथ शादी कर सके. दरअसल, फ्रांस की रहने वाली मैरी लौर हेरल का बेगूसराय के रहने वाले राकेश कुमार के साथ अफेयर था. रविवार को दोनों ने धूमधाम से हिंदू रीति-रिवाज से शादी की. जब दोनों की शादी हुई तो बिहार का दूल्हा और विदेशी दुल्हन को देखने के लिए ग्रामीणों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी. शादी संपन्न होने के बाद अगले दिन सोमवार को भी विदेशी दुल्हन को देखने के लिए घर पर रिश्तेदारों और ग्रामीणों का तांता लगा रहा.

बेगूसराय के कटहरिया निवासी रामचंद्र साह के पुत्र राकेश कुमार ने पेरिस की रहने वाली बिजनेसमैन मैरी लोरी हेरल के साथ सनातन परंपरा के मुताबिक विवाह रचाया. मैरी के साथ उसके माता भी शादी में शामिल होने आए थे. अगले सप्ताह दूल्हा और दुल्हन पेरिस लौट जाएंगे.

दुल्हे के पिता रामचंद्र साह ने बताया कि उनका बेटा राकेश दिल्ली में रहकर देश के विभिन्न हिस्सों में टूरिस्ट गाइड का काम करता था. इसी दौरान करीब छह साल पहले भारत घूमने आई मैरी के साथ उसकी मुलाकात हुई. भारत से अपने देश जाने के बाद दोनों की बातचीत कब प्यार में बदल गई किसी को पता नहीं चला. इसके बाद करीब तीन साल पहले राकेश भी पेरिस चला गया. वहा  राकेश मैरी के साथ मिलकर पार्टनरशिप में कपड़ा का व्यवसाय करने लगा. कपड़ा का व्यवसाय करने के दौरान दोनों का प्यार और गहरा होता गया.

दोनों के अफेयर की जानकारी मैरी के परिजनों को लगी तो उन्होंने भी रिश्ते के लिए हामी भर दी. मैरी को भारतीय सभ्यता और संस्कृति इतनी ज्यादा पसंद थी कि उसने भारत आकर अपने होने वाले पति के गांव में शादी करने का प्लान बनाया. इसके बाद मैरी अपने माता-पिता एवं राकेश के साथ गांव पहुंची, जहां रविवार की रात भारतीय सनातन परंपरा के अनुसार वैदिक मंत्रोच्चार के बीच दोनों की शादी संपन्न हुई. जानकारी के अनुसार, राकेश के मामा भी गाइड का काम करते थे. उनकी भी कुछ ऐसी ही लव स्टोरी रही है. फिलहाल वह शादी करके फ्रांस में ही रह रहे हैं.