“आप” पार्टी ने दी सरकार को चेतावनी : देवस्थानम बोर्ड भंग नहीं किया तो उत्तराखंड मे “आप” सड़कों पर करेगी प्रदर्शन

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

देहरादून : उत्तराखण्ड में देवस्थानम बोर्ड को भंग करने की मांग को लेकर चारधाम तीर्थ पुरोहित व हक-हकूकधारी महापंचायत ने आज काला दिवस मनाते हुए विरोध स्वरूप सचिवालय कूच किया। इस दौरान पुलिस ने बेरिकेट्स लगाकर सचिवालय पहुंचने से पहले ही तीर्थ पुरोहितों को रोक लिया। 27 नवंबर 2019 के दिन ही श्राइन बोर्ड का गठन का प्रस्ताव पारित हुआ था। जिसका नाम बाद में देवस्थानम बोर्ड किया गया। तीर्थ पुरोहित लगातार इस बोर्ड को खत्म करने के लिए आंदोलन करते रहे  लेकिन सरकार उच्च स्तरीय कमेटी की बात कहकर तीर्थ पुरोहितों की हक से लगातार खिलवाड़ करती आई ,जिसके लिए कई बार तीर्थ पुरोहित प्रदर्शन कर चुके हैं। आम आदमी पार्टी भी लगातार शुरू से देवस्थानम बोर्ड का विरोध करती आई है और इसको भंग करने को लेकर कई बार 70 विधानसभाओं में इसका विरोध कर चुकी है। आम आदमी पार्टी की मांग है तत्काल सरकार बोर्ड को भंग करे नहीं तो फिर आम आदमी पार्टी फिर सड़कों पर उतर कर आंदोलन करेगी।

आज तीर्थ पुरोहितों ने काला दिवस मनाते हुए  सचिवालय कूच किया जहां  इस आंदोलन को समर्थन देने आप पार्टी की ओर से प्रदेश  प्रवक्ता संजय भट्ट, उमा सिसोदिया, नवीन पिरसाली, रविन्द्र पुंडीर, डिम्पल समेत कई कार्यकर्ता पहुंचे थे। चार धाम से आए तीर्थ पुरोहित देहरादून के गांधी पार्क पर एकत्रित हुए, जहाँ पर उन्होंने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी के साथ अपनी जन आक्रोश रैली शुरू की। गांधी पार्क रैली के रूप में सचिवालय के पास पहुंचे। जहां पर पहले से तैनात पुलिस ने उन्हें रोक लिया। पुलिस और तीर्थ पुरोहितों में हल्की नोकझोंक भी हुई।

इस दौरान आप प्रवक्ता संजय भट्ट ने बताया कि ये बोर्ड तीर्थपुरोहितों के हक पर सरकार का सीधा डाका है। सरकार अब मंदिरों को भी अपने अधीन करने में आमादा है। इसका आप पार्टी पुरजोर विरोध करती है। उमा सिसोदिया ने कहा कि आप पार्टी शुरु से ही देवस्थानम बोर्ड के विरोध में खडी है और इस बोर्ड को भंग करने की मांग करती है। उन्होंने कहा कि बोर्ड बनाने वाले त्रिवेन्द्र रावत को इसका दंड भुगतना पडा कि उन्हें केदारनाथ में बाबा केदार के दर्शनो से वंचित होना पडा और उन्होंने कहा, अगर ये बोर्ड जल्द  ही भंग नहीं किया जाता तो बीजेपी को अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहना चाहिए। जब तक बोर्ड को तत्काल प्रभाव से भंग नहीं किया जाता तब तक आप पार्टी तीर्थ पुरोहितो का पुरजोर समर्थन करती रहेगी और इसके लिए सड़कों पर उतर कर भी प्रदर्शन करेगी।

Recent Posts