शादी के लिए मंडप तैयार, मगर लेडी सिंघम SHO सीमा जाखड़ फरार, पढ़िये क्या है पूरा मामला…

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

सिरोही: लेडी सिंघम के नाम से खुद को प्रचारित करने वाली बर्खास्त एसएचओ सीमा जाखड़ फरार है। आज फेरे होने हैं। मायके से लेकर ससुराल तक मंगल गीत गाए जा रहे हैं, लेकिन जिस दुल्हन को गले में वरमाला पहनना था वह हाथ में हथकड़ी लगने के डर से फरार चल रही है।  पुलिस सीमा जाखड़ की तलाश कर रही है। उसपर 10 लाख रुपए लेकर तस्कर को भगाने का आरोप है। जोधपुर के मंडोर में शादी की तैयारियां चल रही हैं। पंडाल सज गए हैं। 26 नवंबर को ही सीमा जाखड़ के साथ गैरकानूनी काम में साथ देने वाले 3 कॉन्स्टेबलों को भी बर्खास्त कर दिया गया था। सिरोही के स्वरूपगंज के थाना अधिकारी हरि सिंह राजपुरोहित ने बताया कि सभी आरोपी अभी फरार हैं। उनकी तलाश की जा रही है। डीएसपी मदन सिंह ने भी फरारी की पुष्टि की है।

घरों में खुशी का माहौल

सीमा जाखड़ के खिलाफ भले ही विभागीय कार्रवाई हुई है, पर उसके घर और होने वाले ससुराल में खुशी का माहौल है। मेहमानों का आना शुरू हो गया है। 28 नवंबर को जोधपुर के मंडोर में शादी है। दूल्हा सुखराम कालीराणा जोधपुर के भोपालगढ़ का रहने वाला है। सीमा जाखड़ जोधपुर के विद्यानगर की रहने वाली है। अब सबकी नजर इस बात पर टिकी है कि सीमा शादी के लिए सामने आती है या विवाह कार्यक्रम की सारी तैयारियां धरी की धरी रह जाती हैं।

शादी के लिए खरीदे थे महंगे कपड़े

सीमा जाखड़ ने अपनी शादी के लिए बेहद महंगे और डिजाइनर कपड़ों की खरीदारी काफी पहले कर ली थी। वह अपनी शादी को यादगार बनाना चाहती थी। शादी के लिए महंगे गार्डन और होटल की बुकिंग भी हो गई थी। सस्पेंड लेडी इंस्पेक्टर के होने वाले पति कोचिंग चलाते हैं।

क्या है मामला?

सिरोही के बरलूट थाने की एसएचओ सीमा जाखड़ को डोडा तस्करों से सांठगांठ के मामले में सस्पेंड किया गया था। आरोप है कि महिला इंस्पेक्टर ने पद पर रहते हुए 10 दिन पहले गिरफ्त में आए डोडा पोस्त तस्कर को 10 लाख रुपए की रिश्वत लेकर फरार करा दिया था। इतना ही नहीं, थाने की जीप छोड़कर अपनी पर्सनल बलेनो कार से बदमाशों के भागने में मदद की।

पुलिस विभाग की जांच में सामने आया कि सीमा जाखड़ ने तस्करों के साथ पूरी डील वॉट्सऐप कॉल पर की थी। अधिकारियों ने उनको आरोपियों को पकड़ने के लिए भेजा था, लेकिन मैडम ने कार्रवाई करने की बजाय बाड़मेर में बैठे तस्करों के सरगना से संपर्क कर 10 लाख रुपए में डील कर ली फिर पूरा खेल ही पलट दिया। हालांकि विभाग के सीनियर अधिकारी इस पर नजर बनाए  हुए थे। सिरोही एसपी धर्मेंद्र सिंह ने बरलूट एसएचओ सीमा जाखड़ पर एक्शन लेते हुए उन्हें पुलिस की नौकरी से ही बर्खास्त कर दिया।