धामी का ऐलान – व्यर्थ नहीं जाने दिया जाएगा शहीदों का बलिदान

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

खटीमा : मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि शहीदों के बलिदान को व्यर्थ नहीं जाने दिया जाएगा। भावी पीढ़ी हमेशा जांबाज जवानों की शहादत से प्रेरणा लेती रहेगी। केंद्र एवं राज्य सरकार लगातार पूर्व एवं सेवारत सैनिकों के हितों को ध्यान में रखते हुए सकारात्मक निर्णय ले रही है। सीएम धामी मंगलवार को यहां जनजाति आईटीओ परिसर में आयोजित शहीद सम्मान समारोह में बोल रहे थे। धामी ने कहा कि वीरों का सम्मान स्वयं का सम्मान करने के बराबर है। केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने के बाद सैन्य बलों का मनोबल कई गुना बढ़ा है। आज भारतीय सेना किसी भी आंतरिक एवं बाह्य आतंकी हमले का जवाब देने में पूरी तरह सक्षम है। इसके लिए सेना को किसी आदेश का इंतजार अब नहीं रहता। गोली का जवाब गोली से देना अब सेना क्यों युद्ध नीति का हिस्सा बन गया है। यही वजह है कि देश विरोधी ताकतों की हिम्मत पस्त होने लगी है। उन्होंने कहा कि जवानों की बहादुरी ही मजबूत एवं सशक्त भारत की नींव है।

प्रधानमंत्री मोदी के प्रयासों से ही आज देश में सेना के जवान बुलेट प्रूफ जैकेट की सुविधा से युक्त हैं। सैनिक एवं पूर्व सैनिकों की वर्षों पुरानी वन रैंक वन पेंशन की मांग को प्रधानमंत्री मोदी ने स्वीकार कर सैनिकों का मनोबल बढ़ाया है। धामी ने कहा कि समाज के अंतिम छोर पर खड़े अंत्योदय वर्ग के लोगों को विकास की मुख्यधारा से जोड़ना उनकी सरकार की प्राथमिकता है। वर्ष 2025 में जब उत्तराखंड अपनी स्थापना की 25वीं वर्षगांठ मना रहा होगा, तब तक देवभूमि को देश का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाना उनकी सबसे बड़ी प्राथमिकता है। इस दिशा में उनकी सरकार लगातार प्रयास कर रही है। जिले के प्रभारी मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद एवं सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी  ने  भी कार्यक्रम को संबोधित किया।

Recent Posts