उत्तराखंड में अल्मोड़ा, चमोली और बागेश्वर में सबसे ज्यादा गरीब-  नीति आयोग की रिपोर्ट में खुलासा

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

देहरादून: सुख-समृद्धि के मामले में उत्तराखंड में नेता-मंत्रियों के बराबर फलने-फूलने वाले केवल सरकारी अफसर ही हैं। जबकि राज्य की करीब 17.87 लाख की आबादी गरीबी में जी रही है। उत्तराखंड में सबसे गरीब जिला अल्मोड़ा पाया गया है। यहां 25.65% आबादी गरीब पायी गई है। यह खुलासा नीति आयोग की रिपोर्ट में हुआ है। आयोग की रिपोर्ट के अनुसार, सबसे अधिक गरीबी के मामले में बिहार (51.91%) पहले और झारखंड (42.16%) दूसरे पायदान पर हैं।

इस फेहरिस्त में उत्तराखंड 15वें स्थान पर आया है। उत्तराखंड की 17.87 लाख आबादी गरीब है। हैरान करने वाली बात यह है कि उत्तराखंड के 6 जिले ऐसे हैं, जिनका गरीबी सूचकांक 20% से भी अधिक है। यानि इन छह जिलों का गरीबी सूचकांक राज्य के औसत सूचकांक से भी अधिक है। जबकि, नेता-मंत्री, सीएम हर साल विकास के नाम पर करोड़ों रुपये की घोषणाएं करते रहे हैं।

ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिर विकास का ये पैसा किसकी जेब में जा रहा है? सूचकांक के अनुसार, अल्मोड़ा जिले में डेढ़ लाख लोग गरीबी में जिंदगी गुजर-बसर कर रहे हैं। 2011 की जनगणना के अनुसार, अल्मोड़ा की जनसंख्या 6 लाख 22 हजार 506 है। उत्तराखंड के 6 जिलों में गरीबी सूचकांक 20% से भी ऊपर है। कुमाऊं के अल्मोड़ा, बागेश्वर, चम्पावत, ऊधमसिंह नगर और गढ़वाल के हरिद्वार, उत्तरकाशी जिले की 20% आबादी गरीब है।

उत्तराखंड के जिलों में गरीबी सूचकांक
जिला    जनसंख्या    गरीब
अल्मोड़ा    622506    159672
हरिद्वार    1890422    468068
उत्तरकाशी    330086    80144
यूएसनगर    1648902    382545
चम्पावत    259648    58187
बागेश्वर    259898    51953
टिहरी    618931    120691
चमोली    391605    65789
पिथौरागढ़    483439    67488
रुद्रप्रयाग    242285    33701
नैनीताल    954605    128012
पौड़ी    687271    81991
देहरादून    1696694    81991