शीतकालीन सत्र आज से शुरू, जनरल बिपिन रावत को श्रद्धांजलि देने के बाद स्थगित हुआ सदन, विपक्ष ने बनाई सत्तापक्ष को घेरने की रणनीति

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

देहरादून: उत्तराखंड विधानसभा का शीतकालीन सत्र गुरुवार से शुरू हो गया है। आज पहले दिन सीडीएस बिपिन रावत को श्रद्धांजलि देने के बाद सदन काे स्थगित कर दिया गया। जिसके बाद मुख्यमंत्री दिल्ली रवाना हो गए। वह दिल्ली में जनरल बिपिन रावत की अंत्येष्टि में शामिल होंगे। सत्र का पहला दिन सीडीएस जनरल बिपिन रावत के निधन पर शोक संवेदना और श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए समर्पित रहा। इस क्रम में शीतकालीन सत्र के प्रथम दिवस पर आज सदन में प्रवेश करने से पूर्व उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी व अन्य मंत्री विधायकों ने जनरल बिपिन रावत के चित्र पर पुष्प अर्पित किए। इसके अलावा सत्र की अवधि एक दिन बढ़ाई गई है। 11 दिसंबर को भी सदन संचालित किया जाएगा। कार्य मंत्रणा समिति की बैठक में सदन की कार्यवाही का एजेंडा तय किया गया।

सदन पूरे दिन के लिए स्थगित रहेगा

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने जनरल बिपिन रावत के असामयिक निधन पर शोक व्यक्त करते हुए पहले दिन श्रद्धांजलि अर्पित करने का प्रस्ताव रखा, जिस पर समिति के सदस्यों ने सहमति प्रकट की। बुधवार को विधानसभा भवन स्थित सभागार में स्पीकर अग्रवाल की अध्यक्षता में दलीय नेताओं और कार्य मंत्रणा की बैठक में निर्णय लिया गया कि शोक संवेदना के साथ ही सदन पूरे दिन के लिए स्थगित रहेगा। सदन की गैलरी में सभी सदस्यों की ओर से स्व.विपिन रावत के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गई। पहले दिन शोक संवेदना व्यक्त कर सदन की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई।

जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और भारतीय सेना के अधिकारियों व सैनिकों की हेलीकॉप्टर हादसे में मृत्यु बेहद दुखद और पीड़ादायी है। जनरल रावत के निधन से देश ने वीर सपूत खो दिया। वह भारत राष्ट्र और उत्तराखंड के गौरव थे। गुरुवार को सदन में जनरल रावत को श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

बंशीधर भगत, संसदीय कार्यमंत्री, उत्तराखंड

विपक्ष ने बनाई सत्तापक्ष को घेरने की रणनीति

पांचवीं विधानसभा के गठन के लिए होने वाले चुनाव से पहले आखिरी विधानसभा सत्र के लिए विपक्ष ने सत्तापक्ष को घेरने की रणनीति तैयार कर ली है। मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस सदन में जहां कानून व्यवस्था से संबंधित मुद्दे को लेकर कार्यस्थगन का प्रस्ताव लेकर आएगी, वहीं राज्य विभिन्न मुद्दों को नियम 58 के तहत उठाया जाएगा।

इसके तहत पार्टी राज्य में जहां कानून व्यवस्था का मुद्दा उठाएगी, वहीं महंगाई, बेरोजगारी दैवीय आपदा, किसानों से संबंधित मामले और गौरा देवी कन्याधन योजना का मुद्दा उठाया जाएगा। पिछले दिनों पीएम मोदी के केदारनाथ दौरे के दौरान स्थानीय विधायक मनोज रावत के साथ हेलीपैड पर की गई बदसलूकी और हाल ही में पूर्व मंत्री यशपाल आर्य और उनके पुत्र के काफिले पर हुए हमले का मुद्दा प्रमुख रहेगा। पार्टी गैरसैंण की उपेक्षा का मुद्दा भी जोरजोश से उठाएगी। इसके अलावा भू-कानून और अवैध खनन के मुद्दे भी पार्टी की लिस्ट में हैं। कर्मचारियों से जुड़े मुद्दे, एसीपी का लाभ दिए जाने, पुरानी पेंशन बहाली का मुद्दा और नर्सिंग भर्ती परीक्षा का मुद्दा भी पार्टी सदन में उठाएगी।

पुलिस पीएसी व क्यूआरटी सब तैयार 

पुलिस अधीक्षक – 02
अपर पुलिस अधीक्षक – 06
पुलिस उपाधीक्षक – 15
प्रशि. पुलिस उपाधीक्षक-05
प्रभारी निरीक्षक/थानाध्यक्ष – 16
उपनिरीक्षक – 83
महिला उपनिरीक्षक – 09
मुख्य आरक्षी – 07
आरक्षी- 231
महिला आरक्षी- 51
पीएसी – 03 कंपनी ।
फायर सर्विस- 05गाड़ियां
क्यूआरटी – 02 टीम।
सशस्त्र पुलिस गार्द-05