धुमाकोट में मुख्यमंत्री द्वारा कांग्रेस कार्यकर्ताओं के ज्ञापन को ग्रहण ना किए जाने की धीरेंद्र प्रताप ने निंदा की

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

धुमाकोट / पौड़ी: उत्तराखंड कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता और प्रदेश उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप ने आज मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के धुमाकोट दौरे के दौरान नैनीडांडा ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष जंग बहादुर सिंह नेगी के नेतृत्व में मुख्यमंत्री से मिलने गए कार्यकर्ताओं को मुख्यमंत्री के साथ आए कर्मचारियों द्वारा अभद्रता पूर्वक ना मिलने देने की कार्यवाही को धीरेंद्र प्रताप ने जनतंत्र विरोधी करार दिया है।  धीरेंद्र प्रताप ने कहा कि जब मुख्यमंत्री धुमाकोट में थान सिंह डिग्री कॉलेज पर सरकारी घोषणाओं को लेकर आज वहां पहुंचे थे तो कांग्रेस जन कांग्रेस अध्यक्ष जंग बहादुर सिंह नेगी और महामंत्री रामनिवास रावत के नेतृत्व में जब ज्ञापन देने सभा स्थल जाने लगे तो पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने बलपूर्वक उन लोगों को वहां जाने से रोक दिया।  और नजरबंद कर लिया उन्होंने इसे लोकतंत्र पर कुठाराघात बताया धीरेंद्र प्रताप और कांग्रेस अध्यक्ष जंग बहादुर सिंह नेगी ने कहा कि आजादी के लंबे इतिहास में यह पहला मौका है कि जब से उत्तराखंड बना है। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने आम जनता की अपीलो, अरजियो को लेने से इन्कार कर दिया।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के इस जनविरोधी फैसले के विरोध में नैनीडांडा कांग्रेस के लोग जल्द मुख्यमंत्री  पुष्कर सिंह धामी का पुतला जलाकर अपना विरोध दर्ज करेंगे। उत्तराखंड कांग्रेस उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप ने कहा पिछले 22 साल के उत्तराखंड के इतिहास में पहली बार किसी मुख्यमंत्री ने धुमाकोट क्षेत्र के दौरे पर स्थानीय जनता से ज्ञापन लेने से इनकार किया है । 70 वर्षीय बुजुर्ग नेता और कांग्रेसी अध्यक्ष जंग बहादुर सिंह नेगी के साथ किया गया दुर्व्यवहार और कांग्रेस जनों को दिए गए धक्के पर मुख्यमंत्री लैंसडाउन और नैनीडांडा की जनता से माफी मांगे।