टैबलेट खरीद का मामला: कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल और मंत्री सुबोध उनियाल आये आमने-सामने

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

देहरादून: कांग्रेस ने स्वास्थ्य विभाग में उपकरण, छात्रों के लिए टैबलेट खरीद और सहकारिता विभाग में भर्तियों में घोटाले का आरोप लगाया है। कहा कि सत्ता में आने पर कांग्रेस इन तीनों मामलों की जांच कराएगी। रविवार को राजीव भवन में प्रेस कांफ्रेंस में गोदियाल ने बिना नाम लिए तीन आईएसएस अफसरों को भी चेताया कि यदि नियमों का उल्लंघन करते हुए उपकरण और टैबलेट खरीदे गए तो कांग्रेस सत्ता में आने पर किसी को बख्शेगी नहीं।

गोदियाल ने कहा कि खननप्रेमी सरकार खनन में एक बड़े बकायेदार को बैकडोर से राहत देने की तैयारी कर रही है। स्वास्थ्य विभाग में उपकरणों की खरीद में भारी गोलमाल हो रहा है। अब 2.63 लाख टैबलेट खरीदने की प्रक्रिया में भी धांधली की बुनियाद रख दी गई है। गोदियाल ने कहा कि, मैं तीन अफसरों को चेतावनी दे रहा हूं कि वो नियम विरुद्ध कोई खरीद करने की हिम्मत न करे। मीडिया के अधिकारियों के नाम पूछने पर गोदियाल जवाब टाल गए। उन्होंने कहा, नाम बताना उचित नहीं हैं।

आरोप लगाने से पहले कांग्रेस अपने गिरेबां में झांके: सुबोध 

कांग्रेस के भ्रष्टाचार के आरोपों के जवाब में शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने पलटवार किया और खनन व डेनिश शराब को लेकर कांग्रेस से जवाब मांगा। सुबोध ने कहा कि टैबलेट खरीद में टेंडर नियमों के अनुसार ही किए जा रहे हैं। नियमानुसार प्रक्रिया अपनाई जा रही है। स्वास्थ्य विभाग में भी हर खरीद में पारदर्शी प्रक्रिया अपनाई गई है। खनन में भी नियमों के अनुसार कार्रवाई की गई है। भ्रष्टाचार पर भाजपा की नीति जीरो टालरेंस की थी, है और सदा रहेगी।

भ्रष्टाचार किसी सूरत में बर्दाश्त नहीं होगा। सुबोध ने कांग्रेस पर सवाल उठाते हुए कहा कि भाजपा पर आरोप लगाने वालों को अपने गिरेबां में जरूर झांक लेना चाहिए। कांग्रेस सरकार में शराब के सैकड़ों ब्रांड होने के बावजूद डेनिश शराब को ही क्यों चुना गया?  जितने खनन अब तक के सभी मुख्यमंत्रियों ने किए होंगे, उससे कहीं ज्यादा खनन पट्टे पूर्व सीएम हरीश रावत के कार्यकाल में जारी किए गए थे। कांग्रेस सत्ता की भूख के चलते सरकार पर गलत आरोप लगा रही है।