नैनीताल: कांग्रेस मे घमासान, कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने सरिता को दी ये चेतावनी…

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

नैनीताल: विधान सभा चुनाव में टिकट को लेकर कांग्रेसियों की खींचतान थमने का नाम नहीं ले रही है। कांग्रेस में वापसी कर चुके निवर्तमान विधायक संजीव आर्य का पलड़ा भारी होने से दूसरे दावेदारों क्रमश: पूर्व विधायक सरिता आर्य और वरिष्ठ नेता हेम आर्य के बगावती सुर थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। दोनों की बयानबाजी से नाराज जिलाध्यक्ष सतीश नैनवाल ने अनुशासनात्मक कार्रवाई का नोटिस जारी करने की चेतावनी दी है।

नैनीताल क्लब मे कांग्रेस कार्यकर्ताओं की दून मे कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की रैली की तैयारियों को लेकर बैठक हुईं। इसी दौरान पत्रकारों से रूबरू होते हुए सरिता आर्य व हेम के सुर विरोध नजर आए तो जिलाध्यक्ष और अन्य कार्यकर्ताओं में सुगबुगाहट होने लगी। जिलाध्यक्ष वार्ता छोड़ दूसरे कमरे में आकर पार्टी विरोधी बयानबाजी नहीं करने की हिदायत देने लगे। जिससे कुछ देर के लिए माहौल भी गर्मा गया। जिलाध्यक्ष ने दो टूक कहा कि पार्टी के कार्यक्रम में इस तरह अलग से पत्रकार वार्ता करना अनुचित है। यदि दोनों नेताओं को अपनी बात रखनी है तो वह अलग से वार्ता कर सकते हैं। सख्त लहजे में चेताया कि यदि पार्टी विरोधी बयानबाजी की गई तो उन्हें नोटिस भेजा जाएगा।

अपने परिवार के भीतर ही लड़ रही हूं: सरिता

पूर्व विधायक सरिता आर्य ने कहा कि महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष होने और वर्षो से पार्टी हित में कार्य करने के बावजूद वह अपने हक को लेकर परिवार के भीतर ही लड़ रही है। बोली प्रदेश नेतृत्व को यूपी की तर्ज पर 40 फीसदी टिकट महिलाओं को देना चाहिए।

हेम ने खुद को बताया जिताऊ प्रत्याशी

वरिष्ठ नेता हेम आर्य ने खुद को जिताऊ प्रत्याशी बताया। कहा कि जिताऊ होने के कारण उन्हेें भाजपा, आप, बसपा और यूकेडी सेफोन आ रहे हैं। यदि नैनीताल सीट पर कांग्रेस ने टिकट नहीं दिया तो पार्टी छोड़ देंगे।

संजीव ने पार्टी के निर्णय को बताया सर्वमान्य

निवर्तमान विधायक संजीव आर्य ने कहा कि टिकट की मांग करना हर कार्यकर्ता का लोकतांत्रिक अधिकार है, मगर पार्टी का जो निर्णय होगा वह उन्हें मान्य होगा। पार्टी किसी और को टिकट देती है तो वह कार्यकर्ता के रूप में उसके साथ खड़े नजर आएंगे।