दूल्‍हा-दुल्‍हन ने जैसे ही पहनाई एक-दूसरे को जयमाला, पुलिस ने पहुंच कर आगे की रस्म को रोक डाला, टूट गई शादी…

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

गोरखपुर: उत्‍तर प्रदेश के गोरखपुर में एक विवाह समारोह के दौरान जयमाला स्‍टेज पर अचानक पुलिस पहुंच गई। यही नहीं पुलिस ने वर और वधू पक्ष के लोगों को तत्‍काल शादी रुकवाने का आदेश दिया। इस पर बवाल मच गया। शादी में मौजूद हर शख्‍स सकते में आ गया। हर कोई जानना चाहता था कि आखिर मामला क्‍या है। इस पर पुलिस ने जयमाल स्‍टेज पर ही खुलासा करते हुए दुल्‍हन और वहां मौजूद उसके परिवारीजनों को बताया कि जिस दूल्हे से आप लोग शादी कर रहे हैं वो पहले से शादीशुदा है। पुलिस के मुंह से ये बातें सुनते ही लड़कीवालों के पैर के नीचे से जमीन खिसक गई। पुलिस ने दूल्हे को तत्‍काल हिरासत में लिया और थाने लेते गई। उधर, सोमवार सुबह दूल्‍हा बने शख्‍स की  पहली पत्नी अपने बच्चे के साथ थाने पहुंची। थाने पर पंचायत हुई। पंचायत के फैसले के मुताबिक वर पक्ष ने वधू पक्ष को दहेज में लिया गया सामान और लड़कीवालों द्वारा किया गए खर्च के रुपए लौटा दिए। इसके बाद उनमें समझौता हो गया। लड़की पक्ष ने तहरीर नहीं दी। थाने की पंचायत में हुए आपसी समझौते के आधार पर पुलिस ने दूल्‍हे को छोड़ दिया।

मामला, हरपुर बुदहट थाना क्षेत्र का है। 

रविवार की इस क्षेत्र के एक गांव में बारात आई थी। बारात रात करीब साढ़े दस बजे लड़की के घर पहुंची। दूल्‍हा बना विवेकानंद यादव तिलक और द्वार पूजा के बाद जयमाल के लिए स्‍टेज पर पहुंचा। जयमाल भी हो गया। दूल्‍हा और दुल्‍हन ने एक-दूसरे के गले में जैसे ही जयमाला डाली वहां पुलिस पहुंच गई। उस वक्‍त रात के 12 बज रहे थे।

2014 में जिससे लव मैरेज की थी, उसी ने किया पुलिस को फोन 

विवेकानंद यादव की 2014 में प्रेम विवाह किया था। यह विवाह अयोध्‍या के एक मंदिर में हुआ था। विवेकानंद की पहली पत्‍नी के मुताबिक वह अपने मायके में ही रहती थी। दोनों का चार वर्ष का एक बेटा भी है। इधर, विवेक की शादी उसके मां-बाप ने दूसरी जगह तय कर दी। इस शादी के तय होने के बाद पहली पत्‍नी के पास विवेक का आना-जाना कम हो गया। इसी बीच पहली पत्‍नी को कहीं से भनक लगी कि उसके पति की दूसरी शादी हो रही है। पहली पत्‍नी ने इस बारे में विवेकानंद से पूछा भी लेकिन वह इसे अफवाह बताता रहा। 12 दिसंबर की रात में पहली पत्‍नी को पता चला कि विवेकानंद की शादी तो आज ही हो रही है। इसके बाद उसने पुलिस को फोन कर मामले की शिकायत की। पुलिस जब मौके पर पहुंची तो विवाह समारोह में जयमाल कार्यक्रम चल रहा था। पुलिस ने स्‍टेज पर चढ़कर तत्‍काल शादी रुकवा दी।

थाने पर पंचायत के बाद दहेज वापस कर पहली पत्‍नी के साथ लौटा दूल्‍हा

विवाह स्‍थल से पुलिस दूल्‍हे को थाने ले आई। सोमवार की सुबह पहली पत्‍नी की मौजूदगी में वर-वधू पक्ष के बीच पंचायत हुई। इस पंचायत में लड़के के घरवालों ने दहेज का सारा सामान और खर्च के रुपए लौटाकर किसी तरह लड़की वालों को समझौते के लिए मनाया। विवेकानंद ने अपनी पहली पत्‍नी से भी माफी मांगी। पंचायत के बाद विवेकांनद अपनी पहली पत्‍नी को लेकर वापस घर लौट गया। इस बारे में थाना प्रभारी गगहा अमित कुमार दूबे ने कहा कि किसी पक्ष ने कोई तहरीर पुलिस को नहीं दी है। दोनों पक्ष के लोगों ने आपस में समझौता कर लिया। पहली पत्नी विवेकानंद के साथ अपने घर चली गई है।