उत्तराखंड कांग्रेस मे कलह, यूकेडी ज्वाइन करेंगे नाराज़ हरदा…!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

देहरादून: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने अपने सिलसिलेवार ट्वीट से उत्तराखंड की राजनीति में चर्चाओं का बाजार गरम कर दिया है. उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने बुधवार को तीन ट्वीट्स किए, जिसमें उन्होंने राज्य कांग्रेस संगठन और आलाकमान पर कई सवाल खड़े करते हुए पार्टी छोड़ने और राजनीति से संन्यास लेने का संकेत दिया. इसके बाद जब मीडिया कर्मियों ने उनसे इस बारे में सवाल किया तो हरदा ने मुस्कुराकर कहा, सही समय पर आपको खुद कॉल करके जानकारी दूंगा, तब तक मजा लीजिए.

शाम होते-होते हरीश रावत उत्तराखंड क्रांति दल के नेताओं से मिलने पहुंच गए, जिसके बाद उनके कांग्रेस से बगावत करने की चर्चाओं को और बल मिला. हरदा ने यूकेडी दो बड़े नेताओं काशी सिंह ऐरी व पुष्पेश त्रिपाठी से मुलाकात की. इस पहाड़ी राज्य की राजनीति में इस मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे हैं. इस बीच हरीश रावत के सलाहकार सुरिंदर अग्रवाल ने मीडिया से बातचीत में उस वजह की ओर इशारा किया जिस कारण वरिष्ठ कांग्रेस नेता नाराज चल रहे हैं.

राहुल गांधी रैली से हटाए दिए गए ​थे हरीश रावत के पोस्टर

हरदा के सलाहकार सुरिंदर अग्रवाल ने कहा, ”अगर उनके पोस्टर राहुल गांधी की रैली से देवेंद्र यादव की उपस्थिति में हटा दिए जाएं तो पार्टी में उनकी भूमिका संदेह के घेरे में आती है. इस बात की संभावना पूरी है कि हरीश रावत के खिलाफ षडयंत्र में देवेंद्र यादव की भूमिका हो.” हरदा के सलाहकार ने आगे कहा, ”हो सकता है भाजपा ने हमारे नेताओं को डराने के लिए ईडी और सीबीआई का इस्तेमाल किया हो. अपना हित साधने के लिए हमारे ​किसी साथी को मिसगाइड किया हो, हरीश रावत और हमारे विधायकों के बीच मनमुटाव पैदा किया हो.” आपको बता दें कि देवेंद्र यादव कांग्रेस के उत्तराखंड प्रभारी हैं.

हरीश रावत ने पंजाब से कुछ सीख ली है: तीरथ सिंह रावत

वहीं, उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने हरदा के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए मीडिया से कहा, हरीश रावत कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हैं. वह जो कुछ भी कहते हैं उसमें गंभीरता होती है. जब वह कहते हैं कि उनकी पार्टी के ही कुछ लोग उन्हें दबाना चाहते हैं तो हरदा का दर्द छलकता है. जो पार्टी एकजुट नहीं रह सकती वह चुनाव कैसे लड़ेगी? इसका फायदा भाजपा को जरूर मिलेगा. ऐसा प्रतीत होता है कि हरीश रावत ने पंजाब की राजनीतिक घटना से कुछ सीख ली है. उन्होंने जिस प्रकार का दर्द प्रदर्शित किया है, मुझे लगता है कि उन्हें आराम करना चाहिए.