डॉक्टर भी देखकर हो गये हैरान, महिला के गर्भ मे नहीं, लीवर मे पल रही थी नन्ही जान… पढ़िये पूरी खबर

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

न्यूज़ डेस्क: डॉक्टरों को भगवान का दूसरा रूप माना जाता है, क्योंकि ये धरती पर लोगों को नया जीवन देने का काम करते हैं, लेकिन कभी-कभी उनके सामने भी ऐसे मामले आ जाते हैं, जो उन्हें भी हैरान कर देते हैं. कनाडा में डॉक्टरों के सामने एक ऐसा ही हैरान करने वाला मामला सामने आया है, जिसके बारे में जानकर पूरी दुनिया दंग रह गई है. वैसे आमतौर पर महिलाओं के गर्भ में बच्चे पलते हैं, उनका विकास होता है, लेकिन कनाडा में एक महिला के गर्भ में बच्चा न पलकर उसके लिवर में पल रहा था और बड़ा हो रहा था. डॉक्टरों ने इस मामले को एक्टोपिक प्रेग्नेंसी का ‘अति दुर्लभ’ मामला बताया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महिला की उम्र 33 साल है. बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. माइकल नार्वे ने महिला की इस अजीबोगरीब ‘गर्भावस्था’ के बारे में बताया कि महिला मासिक धर्म के रक्तस्राव के 14 दिनों के इतिहास और अपने अंतिम मासिक धर्म के 49 दिनों के बाद अस्पताल आई, जहां उसकी सोनोग्राफी की गई. इस सोनोग्राफी में हैरान करने वाली चीज दिखी. महिला के गर्भ में भ्रूण न होकर उसके लिवर में एक भ्रूण दिखाई दिया.

चिल्ड्रन हॉस्पिटल रिसर्च इंस्टीट्यूट में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. माइकल नार्वे ने बताया कि महिला को एक्टोपिक प्रेग्नेंसी है, जो बहुत ही दुर्लभ होती है. वह खुद इस मामले से बहुत हैरान थे और उनका कहना था कि उन्होंने लिवर में गर्भ का मामला पहली बार देखा है और यह सचमुच में एक अनोखा मामला है.

डॉक्टर ने बताया कि इस अजीबोगरीब ‘गर्भावस्था’ की वजह से बहुत ही जटिलताएं हैं. इस मामले में गर्भवती महिला की जान तो बचाई जा सकती है, लेकिन लिवर में पल रहे बच्चे की जान नहीं बचाई जा सकती. हुआ भी कुछ ऐसा ही. डॉक्टरों ने ऑपरेशन के माध्यम से महिला की जान तो बचा ली, लेकिन भ्रूण को बचाने में वो असफल रहे.

डॉ. माइकल नार्वे ने इस मामले से जुड़ा एक वीडियो सोशल मीडिया पर भी शेयर किया है, जिसे लाखों बार देखा जा चुका है. लोग इस अजीबोगरीब मामले के बारे में जानकर हैरान हैं. नेशनल सेंटर फॉर बॉयोटेक्नोलॉजी इन्फॉरर्मेशन यानी एनसीबीआई (NCBI) के मुताबिक, लिवर में प्रेग्नेंसी का मामला अति दुर्लभ होता है, इसे एक्टोपिक प्रेग्नेंसी कहा जाता है. दुनियाभर में अभी तक इसके महज 13-14 केस ही देखने को मिले हैं.

Recent Posts