कांग्रेस की दिल्ली बैठक : 70 टिकटों पर शुरू हुआ मंथन, हरदा चाहते हैं सबसे बड़ी हिस्सेदारी ….बड़ा सवाल क्या प्रीतम कर देंगे सरेंडर

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

देहरादून: उत्तराखंड की 70 विधानसभा सीटों पर कांग्रेस के टिकट के दावेदारों के भाग्य का फैसला पार्टी हाईकमान करेगा। प्रदेश चुनाव समिति की पहली बैठक में सर्वसम्माति से यह प्रस्ताव पारित किया गया कि टिकट पर हाईकमान का फैसला सर्वमान्य होगा। यह भी तय किया गया कि समिति को मिले टिकट के सभी आवेदनों को केंद्रीय चुनाव समिति को सौंपा जाएगा। इसी मसले पर आज बुधवार और कल गुरुवार यानि कुल दो दिनों तक  दिल्ली में कांग्रेस की प्रदेश स्क्रीनिंग कमेटी 2022 के विधानसभा चुनाव में किस सीट से किसे टिकट दिया  जाए इस पर माथापच्ची करेगी।  अविनाश पाडेय की अध्यक्षता में गठित प्रदेश स्क्रीनिंग कमेटी की दो दिनी बैठक में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल, नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत समेत अन्य सदस्य टिकट के दावेदारों पर अपनी राय कायम करेंगे।

प्रदेश की 70 विधानसभा सीटों के लिए कांग्रेस में करीब 550 लोगों ने टिकट के लिए अपना दावा पेश किया है । टिकट के तलबगारों के आवेदन पर गौर करने के लिए प्रदेश  कांग्रेस के दफ्तर राजीव भवन में मंगलवार देर शाम प्रदेश चुनाव समिति की बैठक हुई, जिसमें  प्रस्ताव पारित कर  टिकटों पर फैसले का हक  हाईकमान के हवाले कर दिया गया।  प्रदेश चुनाव समिति प्रत्याशियों का पैनल तैयार नहीं करेगी बल्कि समिति प्रत्याशियों के संबंध में अपनी लिखित सिफारिश  केंद्रीय चुनाव समिति को देगी।

समिति के मुखिया सूबाई कांग्रेस  कैप्टन गणेश गोदियाल की सरपरस्ती में हुई बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, गोविंद सिंह कुंजवाल, पूर्व मंत्री यशपाल आर्य समेत समिति के अन्य सदस्य  मौजूद थे। कुलमिलाकर यह देखना होगा कि  हरीश रावत टिकट बंटवारे में अपने गुट के लिए जिस तरह बड़ी हिस्सेदारी की मांग पर अड़े हैं क्या हाईकमान हरदा के हठ के आगे झुकेगा और क्या  विरोधी गुट के सरदार, प्रीतम सिंह भी टिकट की लड़ाई में हथियार डालने  को आसानी से तैयार होंगे।