कोरोना पॉज़िटिव हुए केजरीवाल, बिना मास्क के घूमे थे कल देहरादून, रैली को भी किया था संबोधित, नेताओं ने कही ये बात…

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

देहरादून: देहरादून मे चुनाव रैली को संबोधित करने के एक दिन बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। मंगलवार को उन्होंने यह जानकारी सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर की। उन्होंने संपर्क में आए लोगों से भी कोरोना जांच और आइसोलेशन में जाने की अपील की है।

बिना मास्क आए थे नजर

वहीं केजरीवाल के कोरोना संक्रमित आने से बाद से दिल्ली से देहरादून तक हड़कंप मच गया है। सोमवार को अरविंद केजरीवाल देहरादून में रैली करने पहुंचे थे। उन्होंने मास्क भी नहीं पहना था। इतना ही नहीं अपने संबोधन को बीच में वह कई बार खांसते हुए भी नजर आए। यह रैली परेड ग्राउंड में आयोजित की गई थी। इस दौरान रैली में खासी भीड़ उमड़ी थी। केजरीवाल ने मंच पर कई नेताओं से मुलाकात की थी और पूर्व सैनिकों का सम्मान भी किया था। वहीं राज्य आंदोलनकारियों ने भी मंच पर उनका स्वागत किया था। केजरीवाल इन सभी लोगों के डायरेक्ट संपर्क में आए थे। जिससे अब स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप की स्थिति पैदा हो गई है।

केजरीवाल की रैली को लेकर बीजेपी का कहना है की केजरीवाल ने उत्तराखंड की जनता के साथ अपनी पार्टी के नेताओं के साथ भी धोखा किया है जब उनको कोरोना के लक्षण दिख रहे थे तो केजरीवाल ने उत्तराखंड आने से पहले जांच क्यूँ नहीं कराई केजरीवाल को जनता से माफी मंगनी चाहिए। हालांकि कोरोना महामारी मे नेताओं की रैली करने न करने के सवाल पर बीजेपी गोलमोल जवाब दे रही है और बीजेपी का कहना है की कोरोना नियमों का पालन कीजिये और मास्क लगाये। वहीं पूरे मामले पर कांग्रेस का कहना है की अरविंद केजरीवाल ने दूसरों की जान जोखिम मे डाल दी है वहीं कांग्रेस ने सरकार पर भी सवाल खड़े किए हैं SOP का पालन कराना सरकार का काम था । वहीं कांग्रेस का ये भी कहना है की रैलियों को लेकर सरकार को कोरोना गाइडलाइन जारी कर देनी चाहिए। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष का कहना है की सभी पार्टी की रैलियों पर चुनाव आयोग को रोक लगा देनी चाहिए अगर किसी एक पार्टी को छूट मिलेगी तो निश्चित तौर पर हर पार्टी रैली करने की सोचेगी। वहीं आम आदमी पार्टी का कहना है की जब कोरोना पीक पर था तो प्रधानमंत्री बंगाल मे रैली कर रहे थे वर्तमान केजरीवाल की रैली के बाद आम आदमी डोर टू डोर कैम्पेनिंग करने की नसीहत दे रही है।