May 21, 2022 1:57 am

महिला का आरोप –थाने से बुलेरो छुड़वाने के बहाने BJP कार्यकर्ता ने किया दुष्कर्म, ASP ने दिए जांच के आदेश…

कौशांबी: उत्तर प्रदेश कौशांबी में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसको सुनकर आप दंग रह जाएंगे। पीडब्ल्यूडी के निरीक्षण भवन में एक महिला ने बीजेपी कार्यकर्ता पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है, आरोप है कि बीजेपी कार्यकर्ता ने महिला को उसके पति को थाने से छुड़ाने के बहाने बुलाया था और साथियों के साथ मिलकर उसके साथ दुष्कर्म किया। मामला 23 अप्रैल का बताया जा रहा है। महिला इनके मंसूबो को पहले ही समझ गई और उसने निरीक्षण भवन पहुंचते ही कैमरा चालू कर लिया और वीडियो भी बना लिया। पीड़ित महिला ने एसपी कार्यालय पहुंच कर अपर पुलिस अधीक्षक से इसकी लिखित शिकायत की है। वहीं इस मामले की जानकारी होते ही हड़कंप मच गया। पूरे मामले की जांच एएसपी ने क्षेत्राधिकारी मंझनपुर को दी है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

दरअसल, करारी थाना क्षेत्र की एक महिला ने प्रेम विवाह किया है। महिला ने बुधवार को अपर पुलिस अधीक्षक समर बहादुर को बीजेपी कार्यकर्ता के खिलाफ शिकायती पत्र देते हुए चौंकाने वाले आरोप लगाए। युवती ने बताया कि उसके पति की बोलेरो गाड़ी को पुलिस ने दो माह पहले लावारिस में सीज कर दिया था। 22 अप्रैल को उसका पति सदर कोतवाली में अपनी गाड़ी छुड़वाने पहुंचा तो उसको थाने में बैठा लिया गया। इसके बाद बीजेपी कार्यकर्ता दुर्गेश चौधरी ने उसको फोन कर बताया कि उसके पति को थाने में बैठा लिया गया है। यदि पति को छुड़ाना है तो वह 60 हजार रुपये का इंतजाम करें। वह बीजेपी कार्यकर्ता को जानती थी। वह झांसे में आ गई।

पीड़ित के अनुसार, वह मुख्यालय आई तो उसको बीजेपी कार्यकर्ता द्वारा पीडब्ल्यूडी के निरीक्षण भवन बुलाया गया। निरीक्षण भवन पहुंचते ही महिला ने मोबाइल से वीडियो बनाना शुरू कर दिया था। महिला का आरोप है कि सरकारी गेस्ट हाउस में तीन लोग थे। इस दौरान वहां मौजूद एक युवक गुटखा मंगाने के लिए बाहर भेजा गया। इसके बाद उसके साथ युवक ने साथियों के साथ मिलकर दुराचार किया साथ ही जान से मारने की धमकी दी। युवती के आरोपों के आधार पर पुलिस जांच में जुट गई है।

वहीं मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने पूरे मामले की जांच आगे सौंप दी है। मामले में अपर पुलिस अधीक्षक समर बहादुर ने बताया कि एक युवती ने शिकायत पत्र दिया है। जिस व्यक्ति का नाम दिया है उसमें कहीं नहीं लिखा है कि किस पार्टी का नेता है। पूरे मामले की जांच की जा रही है। अब देखना होगा की पूरे मामले पर आगे क्या कार्रवाई होती है। क्योंकि मामला तो बेहद गंभीर है लेकिन पुलिस ने पूरे मामले में बीजेपी नेता का कही जिक्र नहीं किया है। चूंकि बीजेपी कार्यकर्ता का इसमें नाम आया है इसलिए भी ये पूरा मामला हाई प्रोफाइल बन गया है।