May 16, 2022 10:03 am

तैयारी मे जुटी योगी सरकार, काम पर लगेंगे बेरोजगार, 6 लाख से अधिक युवाओं को नौकरी देने की तैयारी…

लखनऊ: योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में सत्तासीन भारतीय जनता पार्टी सरकार अब रोजगार की दिशा में तेजी से काम कर रही है। आने वाले कुछ समय में दिल्ली से सटे यूपी उत्तर प्रदेश के यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण क्षेत्र में इसका असर भी दिखाई देना शुरू हो जाएगा। इससे आसपास के लाखों युवाओं को रोजगार मिलेगा।

बनेंगे 5 नए औद्योगिक कलस्टर

यूपी सरकार  रोजगार बढ़ाने की दिशा में तेजी से सक्रिय है और ऐसे में यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यीडा) भी अब तेजी से रोजगार पैदा करने की दिशा में काम करने में जुट गया है। इसी कड़ी में यीडा के सेक्टर-10 और आसपास की करीब 200 एकड़ जमीन पर आने वाले समय में पांच नए औद्योगिक कलस्टर बनाए जाएंगे।

बोर्ड बैठक में इन प्रस्तावों को मिली मंजूरी

पिछले दिनों हुई यीडा की बोर्ड बैठक में पांच नए औद्योगिक कलस्टर बनाए जाने का प्रस्ताव लाया गया, जो इस प्रकार है।

  1. . लेदर पार्क
  2. प्लास्टिक पार्क
  3. हैंडलूम एंड हैंडीक्राफ्ट पार्क
  4. इलेक्ट्रिकल मोटर व्हीकल पार्क
  5. ट्रांसपोर्ट पार्क

जानकारों की मानें तो इन पांचों औद्योगिक कलस्टर में बड़ी संख्या में औद्योगिक इकाइयां खुलने से करीब डेढ़ लाख युवाओं को रोजगार मिल सकेगा। यमुना क्षेत्र के सेक्टर-19 में 200 एकड़ में पांचों क्लस्टर विकसित करने की योजना है। वहीं, यह भी कहा जा रहा है कि अगर कलस्टर में उद्यमियों की संख्या अधिक होने की स्थिति में इसका दायरा भी बढ़ाया जा सकता है।

यहां पर बता दें कि फिलहाल यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में अपैरल, एमएसएमई, हैंडीक्राफ्ट, टाय सिटी पार्क और मेडिकल डिवाइस पार्क के रूप में पहले से ही पांच क्लस्टर का निर्माण कार्य चल रहा है। इनमें से चार क्लस्टर के लिए भूमि भी आवंटित की जा चुकी है। अब सिर्फ मेडिकल डिवाइस पार्क के लिए भू-आवंटन नहीं हो पाया है। इसके भी जल्द हो जाने की उम्मीद है। बताया जा रहा है कि इन कलस्टर के बन जान लगभग 5 लाख लोगों को रोजगार मिलेगा।

गौरतलब है कि जेवर क्षेत्र में निर्माणाधीन नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट और फिल्म सिटी ने यहां पर तेजी से निवेशकों को आकर्षित किया है। पिछले कुछ सालों के दौरान ही यहां पर हजारों करोड़ रुपये का निवेश हो चुका है, जिसमें देश के साथ विदेशी कंपनियां भी शामिल हैं।