May 16, 2022 10:04 am

चंपावत उपचुनाव से पहले दल-बदल ने गरमा दी राजनीति, हरदा ने सरकार पर लगाया लोकतन्त्र की हत्या का आरोप…

देहरादून: जैसे – जैसे चंपावत उपचुनाव नजदीक आ रहा है राजनीति गरमाती जा रही है।  कांग्रेस से लगातार लोग किनारा कर रहे आज कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और निवर्तमान प्रदेश उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट ने कांग्रेस से नाता तोड़ लिया है बिष्ट ने विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी के ही कुछ नेताओ पर भितरघात करने का आरोप लगाया है। बिष्ट सोशल मीडिया पर भी ये बातें लिखीं हैं। बिष्ट के मुताबिक उन्हे हराने के लिए चुनाव के दौरान कांग्रेस नेताओ द्वारा खुलेआम भाजपा प्रत्याशी के लिये काम किया गया। प्रचार किया और धन भी बांटा। इनके खिलाफ शिकायत की गई तो नेतृत्व ने कार्रवाई तक नहीं की।इसके अलावा चंपावत के रण मे भी कांग्रेस कमजोर होती दिख रही है कांग्रेस छोड़ बीजेपी मे जाने वालों की फेहरिस्त लंबी होती जा रही है चंपावत मे जिला पंचायत अध्यक्ष रहे बहादुर सिंह पाटनी भाजपा मे शामिल हो गए हैं लेकिन कांग्रेस छोड़ने के बाद बिष्ट ने बेटे के साथ आम आदमी पार्टी ज्वाइन कर ली है ।

आपको बता दें कुछ नेताओं का दावा है की कांग्रेस ने बीते विधानसभा चुनाव मे टिकटों का बंटवारा ठीक तरीके से नहीं किया जिसके चलते पार्टी मे असंतोष और अंतर्कलह शुरू हुई और उसके बाद नेता प्रतिपक्ष और प्रदेश अध्यक्ष बने नेताओं के विरोध के बाद ये और बढ़ गई और कांग्रेसी कांग्रेस से नाराज़ हो गए। इनकी नाराजगी अब तक जारी है। आपको बता दें चंपावत विधानसभा सीट में उपचुनाव में सीएम धामी के सामने कांग्रेस ने महिला प्रत्याशी पर दांव लगाया है। लेकिन नया कप्तान बनने के बाद भी कांग्रेस मे पुरानी खींचतान जारी है नेता पार्टी छोड़कर जा रहे हैं अब देखने वाली बात ये होगी की कांग्रेसी नेताओं मे पनपे असंतोष के बीच कांग्रेस चंपावत का उपचुनाव कैसे लड़ेगी और कैसे जीत हासिल करेगी ? वहीं कांग्रेस निर्मला की शान मे कसीदे पढ़ रही है और बीजेपी को नसीहत दे रही है की अपने प्रतिद्वंदी को कमजोर न समझें।

वहीं दूसरी तरफ पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने प्रदेश में लोकतंत्र की हालत पर चिंता व्यक्त की । हरदा ने कहा है की भाजपा शासन में राजनैतिक प्रतिद्वंद्वियों की जिंदगी असुरक्षित है। हरिद्वार, ऊधमसिंह नगर जिले में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को डराया धमकाया जा रहा है। सरकारी तौर पर अराजकता फैलाई जा रही है। पुलिस को इशारों पर नचाया जा रहा है। प्रदेश में जगह-जगह राजनैतिक प्रतिद्वंद्वियों के साथ बदले की भावना से व्यवहार किया जा रहा है। इसकी लड़ाई स्थानीय स्तर से लेकर देहरादून और सीएम आवास तक लड़ी जाएगी। इसे लेकर सरकार के खिलाफ आंदोलन छेड़ा जाएगा।हरदा ने कहा कि लोकतंत्र में अगर सशक्त विपक्ष नहीं हो तो सत्ता निरंकुश हो जाती है। चंपावत न्याय की धरती है। लोकतंत्र की रक्षा के लिये चंपावत में गोलू देवता के दरबार में अर्जी लगाई जाएगी। आगामी उपचुनाव लोकतंत्र की रक्षा बनाम सत्ता पर होगा। वहीं भाजपा कांग्रेस को डूबता जाहज बता रही है वहीं बीजेपी का कहना है की बीजेपी के कार्यकाल मे लोकतन्त्र की हत्या नहीं हो रही है बीजेपी सभी को साथ लेकर चलती है।