May 16, 2022 11:03 am

स्मार्ट सिटी दून मे टूटी पड़ी सड़कों की शिकायतों के बाद सख्त हुए DM, अधिकारियों को 3 दिन मे देना होगा जवाब वरना वापिस लिया जाएगा काम

देहरादून: जिलाधिकारी डाॅ0 आर राजेश कुमार ने शहर में विभिन्न स्थानों पर जल रिसाव से सड़कों पर बन रहे गढ्ढे एवं सड़कों पर अवस्थित पड़ी विद्युत केबल/अपूर्ण कार्य जिनसे कभी भी कोई अप्रिय घटना होने की सम्भावना रहती है  के दृष्टिगत एवं  जन शिकायतों का संज्ञान लेते हुए अधिशासी अभियन्ता (दक्षिण) जल संस्थान एवं अधिशासी अभियन्ता विद्युत का स्पष्टीकरण तलब करने एवं 3 दिन के भीतर संतुष्टि पूर्वक जवाब न देने की दशा में आपदा प्रबन्धन अधिनियम एवं जनसुरक्षा अधिनियम के सुसंगत प्रावधानों के अधीन कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश अपर जिलाधिकारी को दिए। साथ ही स्पष्टिकरण का संतोषजनक प्रतिउत्तर प्राप्त न होने की दशा में स्मार्ट सिटी के कार्यों को सम्बन्धित संस्थान/विभाग से वापस लिये जाने की चेतावनी दी।

स्मार्ट सिटी के कार्यों में लापरवाही एवं लेटलतिफी के चलते जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार ने कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए अपर जिलाधिकारी (वि/रा) के.के मिश्रा को सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों का स्पष्टीकरण तलब करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी डाॅ0 आर राजेश कुमार के निर्देशों के अनुपालन में अपर जिलाधिकारी ने अधिशासी अभियन्ता जल संस्थान एवं अधिशासी अभियन्ता विद्युत विभाग के अधिकारियों से स्पष्टीकरण तलब करते हुए तीन दिन के भीतर उक्त के सम्बन्ध में आख्या प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।

ज्ञातव्य है कि स्मार्ट सिटी लि0 के कार्यों में विभिन्न माध्यमों से आये दिन प्राप्त हो रही शिकायतों में पानी की पाईपलाईन रिसाव से शहर के विभिन्न आन्तरिक मार्गों पर जल रिसाव एवं एकत्रीकरण हो रहा है, जिस कारण से सड़कों में गढ्ढो का निर्माण होने से जहां एक ओर जलजनित बिमारियों एवं दुर्घटना  का खतरा बना हुआ है। वहीं दूसरी ओर भूमिगत विद्युत लाईन के कार्यों में लेटलतिफी एवं लापरवाही के चलते सड़कों पर अव्यवस्थित पड़ी केबल इत्यादि सामग्री, अधूरे कार्यों जो आये दिन दुर्घटनाओं का कारण बन रहे है, जबकि जिलाधिकारी के बार-बार निर्देशित किये जाने के पश्चात भी सम्बन्धित द्वारा अपने कार्यों में कोई रूचि नहीं ली जा रही है, जिससे ना केवल अन्य समस्या उत्पन्न हो रही हैं, बल्कि शहर की छवि भी धूमिल हो रही है, जिसको लेकर जिलाधिकारी ने कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए जनमानस की सुरक्षा को दृष्टिगत करखते हुए  सम्बन्धितों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिए।