May 16, 2022 10:36 am

खाकी पर सवाल, मार दिया किसी का लाल ।  बच्चा बार–बार मांग रहा था पैसे, तो पुलिसवाले ने गला घोंटकर मार डाला…

दतिया (मप्र) : दतिया पुलिस ने पंचशील नगर कॉलोनी से लापता हुए, 6 वर्ष के बालक की हत्या कर शव फेंकने के मामले में खुलासा कर दिया है। पुलिस ने ग्वालियर ट्रेनिंग सेंटर में पदस्थ कार्यकारी प्रधान आरक्षक रवि शर्मा को गिरफ्तार किया है। आरोपी ने दतिया में ही बालक की हत्या गला घोंटकर की थी। फिर डिग्गी में शव को डालकर ग्वालियर के साइंस कॉलेज के पीछे फेंक कर भाग गया था।

5 मई को पंचशील नगर कॉलोनी निवासी संजीव सेन ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। कि उसका 6 वर्षीय बेटा मयंक सेन 4 मई को पीतांबरा माता की रथयात्रा को देखने के लिए गया था। वह रात को घर वापस नहीं लौटा। तमाम जगह ढूंढने पर उसका पता नहीं चला। इस पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की थी। इसी दौरान पुलिस को सूचना मिली कि ग्वालियर के थाना झांसी रोड के अंतर्गत साइंस कॉलेज के पीछे एक बालक का शव बरामद हुआ है इस पर पुलिस ने मयंक के परिजनों को लेकर ग्वालियर पहुंची। जहां परिजनों ने मयंक के शव की शिनाख्त कर ली। पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया था। साथ ही मामले की जांच शुरू कर दी थी।

ग्वालियर पुलिस ने खंगाले CCTV

ग्वालियर के साइंस कॉलेज के पीछे मिले बालक के शव की जांच ग्वालियर पुलिस ने शुरू की। पुलिस ने विवेकानंद चौराहे पर लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले तो काले रंग की वेगनार कार क्रमांक एमपी 07 सीजी 6380 आते और जाते हुए दिखाई दी। यही नहीं जब और कैमरे खंगाले तब कार में लाश फेंकते हुए की घटना भी कैद हो गई। पुलिस ने जांच आगे बढ़ाई तो कार्य का मालिक हवलदार रवि शर्मा निवासी महलगांव निकला, जो कि वर्तमान में तिगरा ट्रेनिंग सेंटर में पदस्थ है। ग्वालियर पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे से मिले क्लू के आधार पर दतिया कोतवाली पुलिस को अवगत कराया।

बच्चे के बार-बार पैसे मांगने पर की थी हत्या

पुलिस अधीक्षक अमन सिंह राठौड़ ने बताया कि कोतवाली पुलिस रवि शर्मा को हिरासत में लेकर दतिया आई। काफी पूछने के बाद पुलिस कर्मी ने बताया कि उसकी ड्यूटी पंचशील नगर कॉलोनी के गेट पर लगी थी। यहां बालक मयंक बार-बार आरोपी से पैसे की मांग कर परेशान कर रहा था। उसके भगाने पर वह नहीं भाग रहा था। पूछताछ पर आरोपी ने यह भी बताया कि वह कई महीनों से अवसाद व मानसिक तनाव में है। जब बालक नहीं भागा तब आरोपी, बालक को कार के पास ले गया, और उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी। बालक के शव को अपनी कार में रखा और ग्वालियर ले जाकर, विवेकानंद चौराहा साइंस कॉलेज के पीछे फेंक दिया था।