July 3, 2022 2:04 pm

उपचुनाव की चुनावी जंग जीतने के लिए BJP ने झोंकी ताकत, CM धामी ने किया रोड शो

देहरादून. उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत में होने वाले उपचुनाव के लिए पूरी ताकत झोंक दी है. यहां 31 मई को वोटिंग होनी है. यहां से चुनावी जीत धामी के लिए संवैधानिक तौर से बेहद अहम हो गई है और इसी को लेकर वोटिंग से पहले बीजेपी ने अपना चुनाव प्रचार तेज कर दिया है. इसके साथ ही कांग्रेसी नेता भी चंपावत में सक्रिय हो गए हैं. उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी अभी विधायक नहीं हैं और उनके लिए चंपावत विधानसभा सीट को खाली किया गया है. इसके बाद यहां बीजेपी चुनाव जीतने के लिए पूरी ताकत झोंके हुए है. सीएम पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को मतदाताओं के बीच रोड शो भी किया है. बीजेपी ने पूरे चंपावत को पांच सेक्टर में बांटकर इनकी जिम्मेदारी अपने पांच कैबिनेट मंत्रियों को सौंपी हैं. मंत्री चंदन रामदास को चुनाव के मद्देनजर प्रभारी मंत्री बनाया गया है. इसके अलावा शक्ति केंद्र लेवल पर विधायकों, प्रदेश पदाधिकारियों को जिम्मेदारी देकर बूथ मजबूत करने की रणनीति पर काम हो रहा है.

बीजेपी के बड़े नेताओं का चंपावत में डेरा

चुनाव प्रचार के अंतिम चरण में अब बीजेपी ने अपने सभी नेताओं को चंपावत बुला लिया है. सीएम पुष्कर धामी खुद भी अगले दो दिनों तक चंपावत रहेंगे, तो पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक भी चंपावत पहुंच गए हैं. दूसरी ओर राष्ट्रीय महामंत्री विनोद तावडे़, प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम, सह प्रभारी रेखा वर्मा ने भी चंपावत में डेरा डाल दिया है. रविवार को एक बार फिर चंप्पावत के लिए रवाना हुए बीजेपी के प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार का कहना है कि हमारा पूरा फोकस बूथ पर है.

कांग्रेस ने भी कसी उपचुनाव में कमर

इधर, प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा समेत कांग्रेस नेता भी चंपावत में डेरा डाले हुए हैं. पूर्व सीएम हरीश रावत भी सोमवार को चंपावत पहुंच रहे हैं. हरीश रावत चुनाव की घोषणा के बाद पहली बार चंपावत जा रहे हैं. हरीश रावत का कहना है कि हम अपना लोकतांत्रिक कर्तव्य पूरा करेंगे और बीजेपी को हराने का काम करेंगे.

विधानसभा के सभी 151 बूथों पर बीजेपी की पूरी तैयारी

बहरहाल, चंपावत उपचुनाव में अब महज आठ दिन का समय शेष बचा है. बीजेपी ने इन आठ दिनों के लिए चंपावत विधानसभा के सभी 151 बूथों पर पार्टी वर्कर्स की डयूटी लगा दी है. खासकर उन चालीस बूथों पर विशेष फोकस है, जिन पर विधानसभा चुनाव में वो कांग्रेस से पीछे रही.