August 16, 2022 7:02 am

बहन की मौत बर्दाश्त नहीं कर पाया भाई, जलती चिता पर लेट गया, जान गंवाई…

सागर/म0 प्र0: बहेरिया थाना क्षेत्र के मझगवां गांव से चचेरी बहन की मौत के बाद उसके बड़े पिता के बेटे ने भी चिता में लेट कर जान दे दी। दरअसल मृतका के बड़े पिता का पुत्र धार जिला में रहता था, जो शनिवार शाम मगझवां गांव पहुंचा, जहां उसने पहले अपनी चचेरी बहन की चिता को प्रणाम किया फिर उसी में लेट गया। जब तक स्वजनों को इसी जानकारी मिली, वह गंभीर रूप से झुलस गया था। अस्पताल लाने के दौरान रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया। बाद में चचेरी बहन की चिता के पास ही उसका अंतिम संस्कार किया गया।

जानकारी के मुताबिक गुरुवार की शाम मझगवां गांव निवासी ज्योति उर्फ प्रीति दांगी लापता हो गई थी। उसके परिवार के लोग उसे खोजते रहे। शुक्रवार को दूसरे दिन सुबह ज्योति का शव गांव के ही कुएं से मिला। ज्योति की शव कुएं में मिलने के बाद इसकी सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस ने शव को निकालने के बाद पंचनामा कार्रवाई व जिला अस्पताल में पीएम कराया। इसके बाद शव स्वजनों को सौंप दिया।

स्वजनों ने मझगांव गांव पहुंचकर शाम छह बजे ज्योति का अंतिम संस्कार कर दिया। ज्योति के निधन की जानकारी धार जिले में रहने वाले उदय सिंह के बेटे करण सिंह को लगी तो वह अपनी चचेरी बहन की मौत से सदमे में आ गया। वह धार से बाइक लेकर मझगवां गांव पहुंचा।

वह सीधा उस स्थान पर पहुंचा जहां ज्योति का अंतिम संस्कार किया गया था। चिता की आग पूरी तरह ठंडी नहीं हुई थी। उसमें आग धधक रही थी। करण सीधा चिता पर लेट गया। जब इस बात की जानकारी आसपास के लोगों को लगी तो उन्होंने इसकी खबर स्वजनों को दी। लोगों ने चिता से करण को हटाया तो वह गंभीर रूप से झुलस गया था। उसे उपचार के लिए जिला अस्पताल ले जाया जा रहा था, तभी रास्ते में दम तोड़ दिया।

जिला अस्पताल में पीएम के बाद करण का शव स्वजनों को सौंपा गया। बाद में करण का अंतिम संस्कार उसकी चचेरी भाई की चिता के बाजू में किया गया। बहेरिया थाना प्रभारी इस संबंध में बहेरिया थाना प्रभारी दिव्यप्रकाश त्रिपाठी का कहना है कि दोनों ही मामले में मर्ग कायम किया है। मामले की जांच की जा रही है।