August 16, 2022 6:16 am

पॉलिथीन से मिलेगी मुक्ति ! राजधानी दून मे स्थापित होंगे थैला घर, मात्र पांच रुपये में मिलेगा कपड़े का थैला

देहरादून: छावनी परिषद देहरादून, कैंट क्षेत्र को पालीथिन मुक्त के लिए एक नई पहल करने जा रहा है। गढ़ी-डाकरा व प्रेमनगर के बाजार में ‘थैला घर’ की स्थापना की जाएगी। जहां आम जन को मात्र पांच रुपये में कपड़े का थैला मिल जाएगा। खास बात ये कि वह थैला वापस कर भुगतान की गई रकम वापस भी ले सकते हैं। बुधवार को बोर्ड के अध्यक्ष ब्रिगेडियर अनिर्बन दत्ता आयोजित छावनी परिषद की बैठक में इस प्रस्ताव पर मुहर लग गई। कैंट बोर्ड की इस बार की बैठक में मुख्य मुद्दा पालीथिन मुक्त अभियान रहा। खास बात ये कि ‘थैला घर’ को व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्रों से जोड़ा जा रहा है। कैंट बोर्ड अभी दो व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र संचालित कर रहा है। प्रशिक्षण केंद्रों से जोड़ा जा रहा है। कैंट बोर्ड अभी दो व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र संचालित कर रहा है। इनमें एक गढ़ी और दूसरा प्रेमनगर में है। जिनमें महिलाओं को सिलाई का भी प्रशिक्षण दिया जाता है। ऐसे में ये महिलाएं कपड़े के थैले तैयार करेंगी। यानी कपड़े के थैले से न केवल पालीथिन पर रोक लगाने में मदद मिलेगी, बल्कि महिलाओं के लिए आमदनी का जरिया भी बनेगा।

इन्हें प्रति थैला कितना पैसा दिया जाएगा, इस पर अगली बोर्ड बैठक में निर्णय लिया जाएगा। सिलाई के लिए आवश्यक संसाधन कैंट बोर्ड उपलब्ध कराएगा। इस मुहिम से जुड़ा एक अच्छा पहलू और भी है। थैले बनाने के लिए खास अभियान के तहत घर-घर से पुराने कपड़े एकत्र किए जाएंगे। इसके अलावा पर्यावरण संरक्षण की मुहिम के तहत भी कैंट बोर्ड एक अहम कदम उठाने जा रहा है। स्वच्छ भारत अभियान के तहत कैंट क्षेत्र में वर्मीकम्पोस्टिंग पार्क की भी स्थापना की जा रही है। जहां गोबर, पत्तों, किचन वेस्ट आदि से खाद तैयार की जाएगी। वर्मीकम्पोस्टिंग पार्क के लिए जगह चिन्हित की जा रही हैं। वहीं, आवश्यक संसाधन भी जुटाए जा रहे हैं। बोर्ड बैठक में मुख्य अधिशासी अधिकारी अभिनव सिंह, नामित सदस्य विनोद पंवार आदि उपस्थित रहे।

म्यूटेशन के 101 प्रकरण निपटाए

बोर्ड बैठक में म्यूटेशन के भी 101 प्रकरण निपटाए गए। यह प्रकरण पिछले कुछ वक्त से लंबित चल रहे थे। बता दें, कैंट बोर्ड ने भवन मानचित्र, म्यूटेशन आदि की प्रक्रिया आनलाइन कर दी है। म्यूटेशन के ये 101 प्रकरण आफलाइन प्रक्रिया के तहत आए थे। इसके बाद सभी प्रकरण आनलाइन निपटाए जाएंगे।

पूर्व सीडीएस की प्रतिमा पर मंथन

बैठक में देश के प्रथम सीडीएस दिवंगत बिपिन रावत की प्रतिमा को लेकर भी चर्चा हुई। उनकी 12 फीट की प्रतिमा लगनी है। यह प्रतिमा चीड़बाग स्थित शौर्य स्थल पर लगाने की बात चल रही है। पर अभी इस पर सहमति नहीं बन पाई है। इसे लेकर जनरल बिपिन रावत फाउंडेशन से राय ली जा रही है।