August 16, 2022 7:05 am

उत्तराखंड: “बारिश” ने किया बेहाल, सड़क पर आया “सैलाब”

देहरादून: मॉनसून के शुरू होते ही ऐसा प्रतीत होता है मानो लोगों पर आफत के बादल छा गए हैं। उत्तराखंड में सुबह से ही बारिश हो रही है और यही बारिश लोगों के लिए आफत बनती जा रही है। गढ़वाल से लेकर कुमाऊँ तक भारी बारिश के चलते जगह-जगह मार्ग क्षतिग्रस्त हो गए हैं जिसके कारण आवागमन भी ठप्प हो गया है। गढ़वाल मे पहाड़ से लेकर मैदान तक बाइर्ष का दौर जारी है भारी बारिश की वजह से ऋषिकेश का ड्रेनेज सिस्टम बिल्कुल फेल हो गया है। शहर की सड़कें जलमग्न हो चुकी हैं। जगह-जगह जलभराव होने की वजह से लोगों को पैदल चलने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सबसे बड़ी दिक्कत हरिद्वार रोड स्थित पुरानी चुंगी से लेकर कोयल घाटी डिग्री कॉलेज तक देखने को मिल रही है। नदियां उफान पर हैं। उधर पौड़ी जिले के कोटद्वार मे सुबह से हो रही लगातार तेज बारिश के चलते प्रत्येक जगह प्रशासन के द्वारा वहीं नदी किनारे बसे परिवारों से आह्वान  किया गया था वह बरसाती नालों व नदियों से दूर रहें दिलचस्प मामला कोटद्वार भाबर की सुखरो नदी में दो युवक  फंस गए जिसके बाद स्थानीय लोगों के द्वारा पुलिस को सूचित किया गया वही सूचना पाते ही एसडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची और युवकों को सकुशल बाहर निकालने का रेस्क्यू शुरू किया गया एस डी आरएफ के द्वारा भारी मशक्कत के बाद दोनों युवकों को सकुशल नदी से बाहर निकाला गया ।

कुमाऊं में शहरी औार पहाड़ी इलाकों में बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त है। पिथौरागढ़ में बारिश से दवालीगाड़ का लोहे का पुल खिसककर हट गया है। मुनस्यारी में आइटीबीपी कैंप के पास दरकोट मार्ग में दरार आ चुकी है, जिससे भूस्खलन का खतरा बना हुआ है। बागेश्वर के पिंडारी मोटर मार्ग सोंग कस्बे के पास करीब 100 मीटर बह गई है। एक पैदल पुलिया भी गांव को जोड़ने वाली बह चुकी है। इसके अलावा मुनस्यारी और धारचुला मार्ग पर कई जगह रास्ते भी भूस्खलन के चपेट में आए हैं। कपकोट से मुनार में पुलिया टूट गई है। वहीं सूपी मोटर मार्ग ध्वस्त हो गया है। इसके अलावा कई दुकानों में मलबा घुस गया है। जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो चुका है। सुबह से भारी बरसात के बीच तेज बादल कड़कने से लोग भयभीत नजर आए। लोग घरों में दुबके हुए हैं आपको बता दें कि मौसम विभाग के अलर्ट के मद्देनजर डीएम ने आज एहतियातन छुट्टी घोषित की है। इधर हल्द्वानी में जगह-जगह सड़क पर वाहन धंसे हुए हैं और पूरा शहर जलमग्न नजर आ रहा है। इधर शहर में सीवर और गैस लाइन बिछाने का कार्य चल रहा है जो लोगों के जी का जंजाल बन चुका है। सही से भरान न होने के चलते कई वाहन धंस चुके हैं। बता दें लोगों ने पहले ही मानसून सीजन में इन कार्यों पर रोक लगाने की मांग की थी मगर प्रशासन ने कोई ध्यान नहीं दिया नतीजतन आलम यह है कि अब बीच शहर की सड़कें धंस चुकी हैं, गंदगी का अंबार लगा है और वाहन इन सड़कों पर धंस चुके हैं।

राजधानी देहरादून की बात करें तो यहाँ भी यही हाल है बारिश कल शाम से ही रुक जारी है मौसम विभाग ने पौड़ी और नैनीताल के अलावा शनिवार के लिए ही देहरादून, टिहरी, हरिद्वार, उधमसिंहनगर, चम्पावत, अल्मोड़ा बागेश्वर व पिथौरागढ़ जिले में कहीं कहीं पर भारी से बहुत भारी बारिश की आशंका जताई है इन जिलों को ऑरेंज अलर्ट पर रखा गया है जबकि पौड़ी और नैनीताल जिले के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है। नैनीताल, पौड़ी और पिथौरागढ़ में पहली से बारहवीं तक के स्कूलाें में छुट्टी भी घोषित कर दी गई है। मौसम निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि लोगों को विशेष एहतियात बरतने की जरुरत है साथ ही देहरादून में भी शनिवार को भी हल्की से मध्यम बारिश और कहीं कहीं भारी बारिश का अनुमान लगाया गया है।