August 12, 2022 2:42 am

हथेली पर रखकर अपनी जान, गंगा मे कूद पड़े सेना और पुलिस के जवान, बचा ली 6 कावड़ियों की जान, देखें रेस्क्यू का VIDEO…

हरिद्वार: हरिद्वार में कावड़ यात्रा के दौरान एक शॉकिंग वीडियो सामने आया है। इस समय हरिद्वार में गंगा स्नान के लिए कांवड़ यात्रियों की भारी भीड़ है। वहीं, भारी बारिश के चलते गंगा नदी में पानी का तेज बहाव है। इस बीच शुक्रवार सुबह 6 कावड़ियां बह गए। हालांकि सेना और पुलिस के ज्वाइंट रेस्क्यू ऑपरेशन में उन्हें बचा लिया गया। जोनल मजिस्ट्रेट नरेश चौधरी के मुताबिक सेना की तैराकी टीम ने अब तक 18 कावड़ियों की जान बचाई है। रेस्क्यू टीम घाटों पर तैनात है। चौधरी के अनुसार, वे लगातार लोगों से तेज धारा में न जाने की अपील करते आ  रहे हैं।

उत्तराखंड में फिर से भारी बारिश का अलर्ट है

मौसम विभाग ने उत्तराखंड में अगले 2-3 दिनों के लिए भारी बारिश का यानी ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। इस दौरान भारी से अति भारी बारिश भी संभावित है। संवेदनशील इलाकों में हल्का से मध्यम भूस्खलन और चट्टान गिरने की आशंका है। मौसम विभाग के मुताबिक शुक्रवार व शनिवार को उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर, नैनीताल और पिथौरागढ़ जिले में कहीं-कहीं भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के निदेशक बिक्रम सिंह के मुताबिक, भूस्खलन और चट्टान गिरने से कहीं-कहीं सड़कें बंद हो सकती हैं। उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर, पिथौरागढ़ में कहीं-कहीं भारी बारिश की संभावना है। इस दौरान रेस्क्यू टीम अलर्ट पर है।

भारी बारिश के बीच जम्मू से 4700 तीर्थयात्री अमरनाथ गुफा के लिए रवाना

भारी बारिश के बीच 4,703 से अधिक अमरनाथ यात्रा तीर्थयात्रियों का एक नया जत्था गुरुवार को मध्य कश्मीर के गांदरबल जिले के बालटाल और पहलगाम के जुड़वां बेस कैम्पों के लिए यहां भगवती नगर आधार शिविर से रवाना हुआ। अधिकारियों ने बताया कि तीर्थयात्री केंद्रीय रिजर्व सुरक्षा बल (सीआरपीएफ) की सुरक्षा में 156 वाहनों के काफिले में सवार होकर रवाना हुए। बालटाल के लिए जाने वाले 2,001 तीर्थयात्री 54 वाहनों में भगवती नगर शिविर छोड़ने वाले पहले व्यक्ति थे, इसके बाद 102 वाहनों का दूसरा काफिला 2,702 तीर्थयात्रियों को पहलगाम ले गया। इसके साथ ही 29 जून से अब तक कुल 1,24,714 तीर्थयात्री जम्मू आधार शिविर से घाटी के लिए रवाना हो चुके हैं। जम्मू क्षेत्र में भारी बारिश हो रही है, जिससे भूस्खलन, भूस्खलन और अचानक बाढ़ की आशंका पैदा हो गई है। दक्षिण कश्मीर हिमालय में 3,880 मीटर ऊंचे गुफा मंदिर के लिए 43 दिवसीय अमरनाथ यात्रा 30 जून को शुरू हुई। अधिकारियों ने कहा कि अब तक 2.20 लाख से अधिक तीर्थयात्रियों ने गुफा मंदिर में पूजा-अर्चना की है, जहां प्राकृतिक रूप से बने शिवलिंग हैं। यात्रा 11 अगस्त को रक्षा बंधन के अवसर पर समाप्त होने वाली है। अमरनाथ यात्रा के दौरान अब तक 35 लोगों की मौत हो चुकी है, जिनमें ज्यादातर तीर्थयात्री हैं। अधिकारियों ने बताया कि इसमें उन 15 तीर्थयात्रियों को शामिल नहीं किया गया है जिनकी 8 जुलाई को गुफा के पास अचानक आई बाढ़ में मौत हो गई थी।