May 16, 2022 5:55 pm

4 साल प्रदेश को पीछे धकेला, अब हमारी जनहित की नीतियों पर बौखला रहे पूर्व सीएम त्रिवेन्द्र – AAP उपाध्यक्ष

देहरादून: आप पार्टी पर दिए गए पूर्व सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत के बयान पर पलटवार करते हुए आप उपाध्यक्ष अमित जोशी ने कहा, प्रदेश के विकास को पूरे चार साल पीछे धकेलने वाले  पूर्व सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत आप पार्टी को लेकर जिस तरह की बयानबाजी कर रहे वो  बात तथ्यहीन और बेबुनियाद है। उन्होंने कहा कि त्रिवेन्द्र रावत  जी की सबसे बडी उपलब्धि रही कि, वो जीरो वर्क सीएम रहे जिन्होंने 4 साल के कार्यकाल में विकास का कोई भी कार्य नहीं किया। उन्होंने कहा कि, जबसे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 300 यूनिट मुफ्त बिजली हर परिवार को प्रतिमाह देने की घोषणा, आप की सरकार बनते ही उत्तराखंड वासियों के लिए की है तभी से बीजेपी समेत कई विरोधी पार्टियां आप पर निशाना साध रहे हैं।

आप उपाध्यक्ष ने कहा, कि आखिर चार साल तक क्यों नहीं पूर्व सीएम त्रिवेंद्र को  जनता की याद आई ।  जो अब केजरीवाल जी पर मुफ्त बिजली देने के बहाने अनर्गल बयानबाजी और निशाना साध रहे हैं। उन्होंने कहा कि, पहले पूर्व सीएम को अपने गिरेबां में झांकना चाहिए ऐसे ही नहीं जनता उनको जीरो वर्क सीएम कहती है। आप उपाध्यक्ष ने कहा,जनता जानती है कैसे  त्रिवेन्द्र सिंह रावत के  राज में जीरो टोलरेंस की धज्जियां उडी,  युवा आज भी बेरोजगारी की मार झेल रहे हैं,कैसे पलायन से पूरा प्रदेश कराह रहा है,कैसे बिना इलाज के कोरोना में हजारों लोग मौत के ग्रास में समा गए। इसके अलावा पूर्व सीएम ने अपने चार साल के कार्यकाल में प्रदेश को विकास की गति में  बहुत पीछे धकेल दिया । आप उपाध्यक्ष ने आगे कहा कि, आज आप पार्टी की चर्चाएं ,घर घर में हो रही है और पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत का आप पार्टी पर तंज कसना इस बात का प्रमाण है कि, बीजेपी के नेता भी आप की धमक से बौखला गए हैं।

उन्होंने आगे कहा कि, ये झुंझलाहट बीजेपी की बौखलाहट बताने के लिए काफी है और आगे तो अन्य भी योजनाएं हैं जो जनता के बीच लाई जांएगी। उन्होंने कहा कि बीजेपी गलतफहमी से उबर नहीं पाई है । जिस दिल्ली की जनता को आप पार्टी की सरकार सहूलियतें दे रही है ,उसी जनता ने केजरीवाल जी को दिल्ली में तीसरी बार मुख्यमंत्री बनाया। आप पार्टी काम की राजनीति करती है। जैसा मॉडल दिल्ली में आप पार्टी की सरकार ने करके दिखाया है ,वैसे ही कार्य उत्तराखंड में भी सरकार बनते ही धरातल पर उतारे जाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि बीजेपी जो मुफ्त लग रहा है दरअसल वो जनता का मौलिक अधिकार है। उत्तराखंड की जल जंगल जमीन पर यहीं के लोगों का पहला हक है। तो आखिर क्यों नहीं यहां के लोगों को मुफ्त बिजली पानी मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि केन्द्र की सरकार कई चीजें मुफ्त देने की बात करती है लेकिन बीजेपी के नेताओं को उनसे कोई गुरेज नहीं है लेकिन जब बात उत्तराखंड के लोगों की हक हकूक की आए तो यहां के नेता बयानबाजी पर उतर आते हैं।