May 18, 2022 11:53 am

देवभूमि का दंगल 2022 :-केजरीवाल का ऐलान- ए- जंग, कहा -कर्नल कोठियाल होंगे : ” आप ” के सीएम- बीजेपी, कांग्रेस के सामने  कर्नल के चेहरे की चुनौती!

देहरादून: अगले साल उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव होने हैं. पहली बार आम आदमी पार्टी भी पहाड़ी राज्य देव भूमि उत्‍तराखंड में अपनी किस्मत आजमाने जा रही है. मुफ्त बिजली के वादे के बाद अब पार्टी ने रिटायर्ड कर्नल अजय कोठियाल को आगामी चुनाव में मुख्ममंत्री पद का दावेदार घोषित कर अपना पहला दांव चला हैं. दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री और आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को देहरादून में रिटायर्ड कर्नल अजय कोठियाल को उत्‍तराखंड के आगामी विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी की ओर से मुख्ममंत्री पद का उम्‍मीदवार बनाया है.

रिटायर्ड कर्नल अजय कोठियाल ने 19 अप्रैल के दिन ही अपने सैन्य जीवन की शुरूआत की थी.19 अप्रैल को ही उन्‍होंने आम आदमी पार्टी का दामन थामा और अपने राजनीतिक पारी की शुरूआत भी की.

ऑपरेशन कोंगवतनमें निभाई अहम भूमिका

अजय कोठियाल ने ‘ऑपरेशन कोंगवतन’ के दौरान सात आतंकियों के मार गिराने के लिए ‘कीर्ति चक्र’ से सम्मानित किया गया. यही नहीं उनकी अगुवाई में चले ‘ऑपरेशन पराक्रम’ के दौरान 4 गढ़वाल राइफल्स ने 21 आतंकवादियों को ढेर किया, इनमें से 17 आतंकवादियों को मार गिराने में तत्कालीन मेजर अजय कोठियाल का हाथ था.

कर्नल कोठियाल की अगुवाई में हुआ आपदा के बाद केदारनाथ का पुनर्निर्माण

उत्तराखंड में साल 2013 में आई विनाशकारी हिमालयन सुनामी के बाद शुरू हुए निर्माण कार्यों और खासकर केदारनाथ पुनर्निर्माण में भी कर्नल (रिटा.) अजय कोठियाल का जिक्र सबसे पहले आता है. केदारपुरी जिस दिव्य और भव्य स्वरूप में आज नजर आ रही है, उसका श्रेय कर्नल कोठियाल और उनके निर्देशन में बेहद चुनौतीपूर्ण परिस्थिति में काम करने वाली टीम को जाता है.

जानें कर्नल कोठियाल के बारे में खास बातें

नाम – सेवानिवृत्त कर्नल अजय कोठियाल
जन्म – गुरदासपुर, पैतृक गांव- ग्राम चौंफा, जिला टिहरी गढ़वाल
वर्तमान में निवास – बसंत विहार देहरादून
जन्म तिथि – 26 फरवरी, 1968
शिक्षा – सेंट जोजेफ देहरादून, डीएवी पीजी कॉलेज से स्नातक
उपलब्धियां – दो बार के एवरेस्ट विजेता, एवरेस्ट अभियान का नेतृत्व किया, केदारनाथ पुनर्निर्माण में सक्रिय भूमिका, नंदा देवी राजजात 2014 का संचालन, सेना के कई अभियानों को अंजाम दिया, यूथ फाउंडेशन के जरिए युवाओं को जोड़ा.