May 21, 2022 12:59 am

मंत्री बोले : ऐसा एप आ रहा जिससे कम-ज्यादा कर सकते हैं बारिश, हरदा ने कहा : भारत रत्न के लिए डा धन सिंह रावत का नाम प्रस्तावित कर दें

देहरादून: आपदा प्रबंधन मंत्री डा धन सिंह रावत का इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुआ एक वीडियो सोमवार को चर्चा के केंद्र में रहा। इसमें वह कहते दिखाई दे रहे हैं, ‘एक ऐसा एप भी आ रहा है, जिसके माध्यम से कहीं भी बारिश को आगे-पीछे या कम-ज्यादा कर सकते हैं।’ कांग्रेस ने इस मुद्दे को लपकने में देर नहीं लगाई। पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत ने प्रदेश सरकार को सुझाव दे दिया कि वह भारत रत्न के लिए डा धन सिंह रावत का नाम प्रस्तावित कर दे। उधर, डा रावत ने कहा कि वह अनौपचारिक बातचीत में एक संस्था के प्रस्तुतीकरण का जिक्र कर रहे थे। उनकी बात को तोड़मरोड़ कर पेश किया जा रहा है।

इंटरनेट मीडिया में सोमवार को आपदा प्रबंधन मंत्री का वीडियो तेजी से वायरल हुआ। इसमें वह यह कहते दिखाई दे रहे हैं कि तीन-चार संस्थाओं से जुड़े विशेषज्ञों की एक कमेटी बनाई गई है। ये तय करेंगे कि किस क्षेत्र में कितनी आपदा आने वाली है, ताकि संबंधित क्षेत्रों में अलर्ट किया जा सके। इसी दौरान वह एप का जिक्र भी करते हैं। साथ ही यह भी कहते हैं कि हम केंद्र को सरकार को प्रस्तुतीकरण देने जा रहे हैं। यदि केंद्र इसकी अनुमति दे देता है तो कई राज्यों के लिए यह बहुत अच्छा हो सकता है।कांग्रेस ने तुरंत ही यह मुद्दा लपकते हुए आपदा प्रबंधन मंत्री को घेरने में देर नहीं लगाई।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने फेसबुक पर अपनी पोस्ट में लिखा,’भाजपा के वरिष्ठ मंत्री डा धन सिंह रावत का फेसबुक पर लाइव स्टेटमेंट देखने को मिला। उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में बारिश कम होती है, कुछ में ज्यादा। कहीं आगे होती है, कहीं पीछे होती है। उत्तराखंड के कष्ट तो मिट ही जाएंगे, मगर मंत्री जिस ऐप को भारत सरकार को दिखाने जा रहे हैं, उसके जरिये देश में बारिश की अनिश्चितता के कारण देश व किसानों के सामने जो कष्ट, चुनौतियां आती हैं, उनका भी समाधान निकल गया है।’ उन्होंने कहा कि इसे देखते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को चाहिए कि वह आपदा प्रबंधन मंत्री का नाम भारत रत्न के लिए केंद्र सरकार को प्रस्तावित कर दें।

मैं तो किसी को समझा रहा था

इंटरनेट मीडिया पर वायरल वीडियो और इसे कांग्रेस द्वारा मुद्दा बनाने के बारे में पूछने पर आपदा प्रबंधन मंत्री डा रावत ने कहा कि उन्होंने ऐसा कोई अधिकृत बयान नहीं दिया। वह तो अपने कार्यालय में अनौपचारिक बातचीत के दौरान किसी को समझा रहे थे कि केंद्र सरकार की एक संस्था ने अपने प्रस्तुतीकरण में बताया है कि बारिश को कम-ज्यादा किया जा सकता है। इस तरह का भी कोई एप विकसित किया गया है। डा रावत के अनुसार उन्होंने संबंधित संस्था से कहा था कि वह इस प्रस्तुतीकरण को केंद्र के समक्ष रखे। इससे सभी राज्यों का भला हो जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पास कोई काम नहीं है और वह बेरोजगार है। लिहाजा, इस तरह के आरोप लगा रही है।