May 19, 2022 12:35 am

बदल चुका है आपके LPG रसोई गैस सिलेंडर से जुड़ा नियम! बुकिंग की टेंशन हुई दूर, पढ़िये क्या है नया नियम

डेस्क न्यूज़: घरेलू रसोई गैस का सिलेंडर बुक करना और भी आसान हो गया है. अब कस्मटर अपने मनमुताबिक डिस्ट्रिब्यूटर चुन सकेंगे. एलपीजी LPG सिलेंडर की बुकिंग के लिए इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन ने एक सुविधाजनक व्यवस्था शुरू की है. यह व्यवस्था रिफिल पोर्टेबिलिटी को लेकर है. सिलेंडर बुकिंग के वक्त ही ग्राहक चाहे तो पोर्टेबिलिटी की सुविधा ले सकता है. इसके लिए इंडियन ऑयल ने एक मोबाइल ऐप बनाया है. इस ऐप का नाम ‘वन ऐप’ है.

मनमुताबिक डिस्ट्रिब्यूटर चुनने के लिए वन ऐप के अलावा इंडिनय ऑयल की वेबसाइट http://cx.indianoil.in पर भी विजिट कर सकते हैं. इस लिंक पर क्लिक करने के बाद ग्राहक अपने हिसाब से रिफिल डिस्ट्रिब्यूटर का चयन कर सकते हैं. इस ऐप या वेबसाइट पर ग्राहक के इलाके में मौजूद डिस्ट्रिब्यूटर की पूरी जानकारी मिलेगी. ग्राहक जब-जब रिफिल बुक करेगा, उसे डिस्ट्रिब्यूटर चुनने की आजादी मिलेगी. बुकिंग के समय ही ग्राहक ड्रिस्ट्रिब्यूटर का भी चयन कर सकेगा जिससे उसे एलपीजी सिलेंडर की बुकिंग होगी.

कैसे होगी बुकिंग

इसके लिए ग्राहक को मोबाइल ऐप या आईओसी के पोर्टल पर जाना होगा. इस पर लॉगिन होने के बाद डिलीवरी डिस्ट्रिब्यूटर की एक लिस्ट दिखेगी. डिस्ट्रिब्यूटर की परफॉर्मेंस रेटिंग भी दिखेगी जिसके आधार पर पता चल सकेगा कि उसकी सर्विस कितनी अच्छी है. यह लोगों के फीडबैक के आधार पर तय होती है. कस्टमर अपनी सुविधा के हिसाब से डिस्ट्रिब्यूटर का चयन करेगा. जिस डिस्ट्रिब्यूटर के नाम का चयन किया जाएगा, वही एलपीजी सिलेंडर की डिलीवरी करेगा. इस बात का कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपका एलपीजी कनेक्शन किस एजेंसी का है. पहले उसी एजेंसी या डिस्ट्रिब्यूटर से सिलेंडर ले सकते थे जिसका कनेक्शन है.

उमंग से भी बुक कर सकते हैं सिलेंडर

रिफिल बुकिंग का काम उमंग ऐप से भी कर सकते हैं. यह सरकारी ऐप है जिसपर एक साथ कई सुविधाएं मिलती हैं. भारत बिल पे सिस्टम ऐप से रिफिल बुकिंग का पेमेंट कर सकते हैं. रिफिल बुकिंग के लिए कस्टमर को और भी कई सुविधाएं मिल रही हैं, जैसे ई-कॉमर्स ऐप अमेजॉन और पेटीएम से भी पेमेंट किया जा सकता है. ग्राहक अपने रजिस्टर्ड लॉगिन से अपनी गैस कंपनी (OMC) के डिस्ट्रिब्यूटर चुन सकेंगे. यहां ध्यान रखना होगा कि इंडेन के ग्राहक अपने इलाके के इंडेन डिस्ट्रिब्यूटर से ही सिलेंडर मंगा सकेंगे न कि यह सुविधा हिंदुस्तान पेट्रोलियम के डिस्ट्रिब्यूटर से मिलेगी.

मोबाइल की तरह एलजीपी की भी पोर्टिंग

पोर्टेबिलिटी की सूरत में सोर्स डिस्ट्रिब्यूटर (जिस एजेंसी से एलपीजी कनेक्शन लिया है) अपने ग्राहक को समझा सकता है और उसी से सिलेंडल लेने के लिए तैयार कर सकता है. यह पूरी तरह से ग्राहक पर निर्भर करता है कि वह पोर्टेबिलिटी लेता है या अपनी पुरानी एजेंसी से ही सिलेंडर लेना पसंद करता है. इसके लिए सोर्स डिस्ट्रिब्यूटर ग्राहक पर किसी तरह का दबाव नहीं दे सकता. जैसे मोबाइल पोर्ट में होता है कि ग्राहक जब पोर्ट का रिक्वेस्ट देता है तो सोर्स कंपनी मैसेज भेजकर पोर्ट रुकवाने का आग्रग करती है.

सोर्स कंपनी ग्राहक से पोर्ट कैंसिल करने के लिए आग्रह करती है. अब ग्राहक पर निर्भर करता है कि वह पोर्ट कैंसिल करता है या किसी दूसरी कंपनी में जाता है. यही नियम रिफिल बुकिंग में भी लागू किया गया है. एलपीजी ग्राहक चाहे तो 3 दिन के अंदर पोर्टेबिलिटी को कैंसिल कर सकता है. 3 दिन बाद एलपीजी का कनेक्शन पोर्ट वाले डिस्ट्रिब्यूटर को चला जाएगा.