May 18, 2022 12:01 pm

थाने मे निकाह, पुलिस बनी गवाह, माशूका के बाप ने पहले लगवाई हथकड़ी, फिर दामाद बनाने को हुआ राज़ी, थाने में निकाह पढ़वा गया काज़ी

मेरठ: मेरठ में एक प्रेमी युगल की दोस्ती थाने में निकाह में बदल गई। युवक अपनी प्रेमिका से लगातार बात करता था। लड़की के परिजनों ने दोनों को साथ देखा तो आरोपी युवक पर रेप का मुकदमा दर्ज करा दिया। पुलिस ने जब युवक को गिरफ्तार किया तो दोनों के परिजन निकाह पर सहमत हो गए। जहां पुलिस की मौजूदगी में थाने में निकाह कराया। आरोपी युवक अभी भी पुलिस की हिरासत में है। पुलिस लड़की के बयान कराकर ही प्रेमी युवक को रिहा करेगी। मेरठ की लिसाड़ीगेट की फतेहउल्लाहपुर की मुस्कान (19) की दोस्ती 3 साल पहले साकिब से हुई थी। साकिब फलों का ठेला लगाता है। तीन साल पहले साकिब हापुड़ अडडे से अपने घर ऑटो से जा रहा था, जहां युवक की दोस्ती लड़की से हुई। दोनों एक ही जगह के रहने वाले हैं। जिसके बाद दोनों एक दूसरे से मोबाइल पर बात करने लगे। लड़की के परिजनों को शक हुआ तो लड़की पर घर से निकलने पर रोक लगा दी।

लड़की के परिजनों ने दोनों को एक साथ देखा

मुस्कान के परिजनों ने घर से निकलने पर रोक लगा दी। वहीं यह भी धमकी दी कि यदि साकिब के प्रेम करना नहीं छोड़ा तो जिंदगी से हाथ धोना पड़ सकता है। सोमवार रात में साकिब अपनी प्रेमिका मुस्कान से घर मिलने गया। जहां लड़की के परिजनों ने दोनों को एक साथ देख लिया। उसके बाद परिजनों को पता चला तो साकिब लड़की के घर की दीवार फांदकर भागने लगा। 6 सितंबर की रात को लड़की के परिजनों ने साकिब के खिलाफ लिसाड़ीगेट थाने में रेप की धारा में एफआईआर दर्ज करा दी। जिसके बाद पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर लिया।

थाने में चली पंचायत, निकाह कर या जेल जा

मंगलवार रात को लिसाड़ीगेट थाने में लड़की और लड़के के परिजन भी पहुंच गए। जहां लड़की के परिजनों ने पुलिस के सामने कहा की रात में छिपकर हमारी बेटी से मिलता था। अब तो जिंदगी भर साथ रखने के लिए निकाह कर, या फिर जेल जा। साकिब की उम्र भी 22 साल है। ऐसे में साकिब के परिजनों ने भी समझाया की क्या चाहता है। युवक ने बताया की मैं लड़की से प्यार करता हूं, दोनों एक साथ रहेंगे। जिसके बाद दोनों पक्षों में निकाह के लिए सहमति बनी। पंचायत के बाद पुलिस ने थाने में मौलवी को बुलाया और दोनों का निकाह पढ़वा दिया।

इंस्पेक्टर भी बने गवाह

इंस्पेक्टर लिसाड़ीगेट रामसंजीवन का कहना है की लड़की के परिजनों की तरफ से रेप का मुकदमा दर्ज कराया गया। मंगलवार रात थाने में दोनों का निकाह कराया गया है। इसमें पांच लोगों को गवाह बनाया गया है। दोनों पक्ष आपस में सहमत हैं। जिसमें आगे की कार्रवाई की जाएगी।

निकाह मंजूर, पर रिहाई कोर्ट के आदेश पर

पूरे मामले में लिसाड़ीगेट पुलिस ने साकिब को नहीं छोड़ा है। इंस्पेक्टर लिसाड़ीगेट रामसंजीवन का कहना है की मुकदमा रेप का दर्ज है। ऐसे में लड़की के बयान दर्ज कराए जाएंगे। कोर्ट के बयान के आधार पर आरोपी को रिहा करा दिया जाएगा। लड़की ने अपने बयान में अपने प्रेमी साकिब के साथ जाने की बात कही है।