उत्तराखंड मे दलबदल का खेल भाजपा ने शुरू किया था और कांग्रेस इसे खत्म करेगी – प्रदेश अध्यक्ष कांग्रेस

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

देहरादून : बाजपुर विधायक व पूर्व कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य और उनके पुत्र नैनीताल विधायक संजीव आर्य की कांग्रेस में वापसी के बाद अभी कुछ और नेता भी वापसी कर सकते हैं। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल और नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने इसके संकेत दिए। मंगलवार को राजीव भवन में प्रेस कांफ्रेस में गोदियाल ने लोकतंत्र समर्थक विचाराधारा के कई लोग कांग्रेस के संपर्क में है। कहा कि विधानसभा चुनाव-2022 के लिए कांग्रेस पूरी तरह तैयार है। दावा किया है कि कांग्रेस भारी मतों से जीत दर्ज कर उत्तराखंड में सरकार बनाएगी। कांग्रेस का चरित्र नहीं है कि वो किसी दल के साथ छेड़छाड़ करें। लेकिन यह खेल भाजपा ने शुरू किया था और अब कांग्रेस इसे खत्म करेगी। बकौल गोदियाल, मैंने पहले ही कहा था कि कुछ समय इंतजार कर लीजिए।

कांग्रेस लोकतांत्रिक व्यवस्था का सम्मान करती है। लेकिन यदि वर्ष 2016 और अभी हाल में भाजपा ने जो हरकत की है, यदि आगे हुई तो कांग्रेस चटटान की तरह खड़ी है। दूसरी तरफ, विधानसभा में मीडिया से बातचीत में प्रीतम ने कहा कि मैंने शुरू से कहा है कि राजनीति में कभी दरवाजे बंद नहीं होते। लोग आते भी और जाते भी हैं। तमाम लोग कांग्रेस के संपर्क में है। देखते रहिए आगे आगे होता है क्या?

हम लोकतांत्रिक व्यवस्था पर विश्वास करते हैं। यदि भाजपा ने आगेभी इस प्रकार शिगूफे छोड़े तो ध्यान रहें हमारे पास भी बड़े बड़े पटाखे हैं।

गणेश गोदियाल, प्रदेश अध्यक्ष-कांग्रेस

एससी छात्र, किसानों से नाइंसाफी से दुखी होकर कांग्रेस में आए आर्य

गोदियाल ने कहा कि आर्य और उनके पुत्र कांग्रेस में बिना शर्त कांग्रेस में आए हैं। उन्होंने बताया था कि एससी छात्रों की छात्रवृत्तियां नहीं दी जा रही थी। किसानों के उत्पीड़न का लेकर भी काफी नाराज थे। इसी वजह से वो कांग्रेस में लौट आए। कांग्रेस ही लोकतांत्रिक मूल्यों को पर चलने वाली पार्टी है।