हरदा बोले: मेरी सरकार गिराने वाले महापापी, बिना माफी कांग्रेस में एंट्री नहीं, हरक ने पूछा, क्या यशपाल आर्य ने माफी मांगी?

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

देहारादून: उत्तराखंड कांग्रेस में यशपाल आर्य की वापसी के बाद अन्य बागियों के लिए रास्ता खुलने के सवाल पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने तीखे अंदाज में जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2016 में सदन के पटल पर पैसों में बिककर जिन लोगों ने उनकी सरकार गिराई थी, वह लोग महापापी हैं। हरीश ने कहा कि यह लोग जब तक सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांगते हैं, उनके रहते कांग्रेस में इनकी एंट्री नहीं हो सकती। अपने आवास से निकलते हुए पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व सीएम रावत ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व.अटल विहारी वाजपेयी ने भी खरीद-फरोख्त की राजनीति को महापाप की संज्ञा दी थी। हरीश ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि यदि फिर भी ऐसे महापापी कांग्रेस में आना चाहते हैं तो पहले उन्हें अपने पाप को स्वीकार करना पड़ेगा।


सार्वजनिक तौर पर खेद प्रकट करना पड़ेगा, वह चाहें तो अपने कुलदेवता के सम्मुख भी ऐसा कर सकते हैं, लेकिन उन्हें बताना पड़ेगा कि उन्होंने महापाप किया था और वह इसके लिए क्षमा चाहते हैं। यदि ऐसा करते हैं तो वह रास्ते में नहीं आएंगे। बिना माफी ऐसे लोग कांग्रेस में प्रवेश करते हैं तो यह उनके लिए बहुत कठिन हो जाएगा। हरीश ने कहा कि यह सवाल सिर्फ उनकी सरकार गिराने का नहीं है, यह सवाल उत्तराखंड की मूल मान्यता और यहां की राजनीतिक संस्कृति पर भी एक काले धब्बे की तरह है।

यशपाल आर्य उन लोगों में शामिल नहीं : हरीश

हरीश रावत ने कहा कि यशपाल आर्य उन लोगों में शामिल नहीं थे। वह व्यक्तिगत कारणों से पार्टी से बाहर गए थे। उन्होंने कांग्रेस के खिलाफ कभी कोई गलत बयान नहीं दिया। इनमें से एक-दो लोग ऐसे थे, जो बेबस होकर गए। उन्हें भी वह पार्टी में स्वीकार करने को तैयार हैं। कहा कि वह एक महिला के विषय में जानते हैं, जिसे एक मंत्री ने गाली देकर अपनी तरफ खींचा था, वह नहीं जाना चाहती थी। उस मंत्री ने अभद्र टिप्पणी करते हुए कहा था कि तुमने पैसे तो ले लिए और अब आने से मना कर रही हो।

एक उजाड़ू बल्द से तो मैं कहता था, तुम मुख्यमंत्री बनोगे

हरीश रावत ने कहा कि उनका किसी से व्यक्तिगत द्वेष नहीं है। यदि वह अपने घर के कुल देवता के सामने भी सार्वजनिक माफी मांगते हैं तो भी उन्हें स्वीकार है। बिना किसी का नाम लिए उन्होंने कहा कि एक उजाड़ू बल्द को तो वह हमेशा बोलते थे कि वह भविष्य में मुख्यमंत्री बनेगा, लेकिन अब वह इतना उज्याड़ खा चुका है कि सब गड़बड़ हो गई है।

भाजपा के कोर ग्रुप के विधायक भी संपर्क में

हरीश रावत ने कहा भाजपा के कोर ग्रुप के विधायक भी उनके संपर्क में हैं। वह कांग्रेस में आना चाहते हैं, लेकिन वह दलबदल की राजनीति में ज्यादा विश्वास नहीं करते हैं।

क्या यशपाल आर्य ने माफी मांगी : हरक

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के माफी मांगने वाले बयान पर कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ने अपने अंदाज में जवाब दिया। उन्होंने सवाल दागा कि हरीश रावत जी बताएं कि क्या यशपाल आर्य ने माफी मांग ली है?

कैप्टन यदि भाजपा का मुखौटा बनना चाहते हैं तो यह सही नहीं है : हरीश रावत

उत्तराखंड के पूर्व सीएम और पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने कहा कि पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह को पद से इस्तीफा देना पड़ा, उनका गुस्सा कहीं तो निकलेगा ही। यदि इसके लिए वह हरीश रावत से नाराज हैं तो नम्रता से इस स्वीकार करते हैं। अपने आवास पर पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए हरीश रावत ने कहा कि यदि वह किसी मसले पर पार्टी से नाराज हैं तो सोनिया गांधी उनकी नेता हैं, वह उनसे अपनी बात रख सकते हैं। यदि वह भाजपा का मुखौटा बनना चाहते हैं तो यह सही नहीं है। उन्होंने खुद को इससे जोड़ते हुए कहा कि यदि कल मैं ऐसा करूं तो इसका मतलब मेरा पालन-पोषण सही नहीं हुआ है।