राकेश टिकैत: ये सरकार की गुंडागर्दी है कि लखीमपुर-खीरी में हुई हिंसा के वीडियो सामने नहीं आने दिए जा रहे हैं

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

नई दिल्ली: किसान नेता राकेश टिकैत बीते दिनों लखीमपुर-खीरी में हुई हिंसा को लेकर केंद्र सरकार पर लगातार निशाना साध रहे हैं। शुक्रवार को राकेश टिकैत तिकुनिया में संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा आयोजित आखिरी अरदास कार्यक्रम में पहुंचे थे। यहां टिकैत ने कोयले की कमी का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा, ‘ये लोग बिजली प्राइवेट कंपनियों को बेचेंगे। अभी 7 रुपए यूनिट है ये सीधा 15 रुपए हो जाएगी। प्राइवेट कंपनियों को बिजली देने के कारण जबरदस्ती कोयले की कमी दिखाएंगे। अगर मोदी 2024 में नहीं हटा तो बहुत परेशानी हो जाएगी।’

राकेश टिकैत आगे कहते हैं, ‘किसानों के लिए कानून काले हैं और देश के लिए मोदी काला है। जितना जल्दी चला जाए उतनी राहत मिलेगी। 1 जनवरी से सब तस्वीर साफ हो जाएगी। देखते है कि अगले साल कितनी फसलें दोगुने दाम पर बिकेंगी। सीधा-सी एक बात समझ लो कि देश के लिए मोदी काला है और किसानों के लिए कानून काले हैं। हमारी तो मांग है कि सरकार तीनों काले कानूनों को वापस ले और MSP के दाम तय किए जाएं।’

अजय मिश्रा के इस्तीफे की मांग

बीकेयू प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा, जब तक केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अपने पद पर बने रहेंगे तब तक इस मुद्दे की निष्पक्ष जांच होने का कोई सवाल ही नहीं पैदा होता। इसलिए हमारी मांग है कि अजय मिश्रा को मंत्रिमंडल से बाहर किया जाए। अगर अजय मिश्रा का इस्तीफा नहीं लिया जाता तो हमारे पास आंदोलन का भी रास्ता है। बहुत जल्द हमारे द्वारा इसकी घोषणा कर दी जाएगी।

राकेश टिकैत ने कहा था, अभी सरकार के पास पूरा समय है सोचने के लिए। 24 अक्टूबर को अस्थियां प्रवाहित की जाएंगी और 26 अक्टूबर को हमारे सभी लोग लखनऊ पहुंच जाएंगे। ये सरकार की गुंडागर्दी है कि लखीमपुर-खीरी में हुई हिंसा के वीडियो सामने नहीं आने दिए जा रहे हैं क्योंकि पूरे क्षेत्र में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री से यहां के लोग डरते हैं इसलिए घायल होने के बाद भी बयान देने के लिए आगे नहीं आ रहे हैं।

बता दें, दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की तरफ से संयुक्त किसान मोर्चा ने ऐलान किया है कि तिकोनिया में ही मृत किसानों की याद में स्मारक बनाया जाएगा। टिकैत ने यहां कहा कि लोगों को गुमराह करने के लिए सिर्फ गिरफ्तारी की गई है और उनसे गुलदस्ता देकर पूछताछ की जा रही है।