उत्तरप्रदेश सरकार का बड़ा फैसला: बच्चों के अभिभावकों के खाते मे दिया जाएगा स्कूल ड्रेस का पैसा, पढ़िये पूरी खबर

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

लखनऊ: उत्तर प्रदेश योगी सरकार ने परिषदीय प्राथमिक/उच्च प्राथमिक विद्यालयों और अशासकीय सहायता प्राप्त प्राथमिक/पूर्व माध्यमिक विद्यालयों के छात्र-छात्राओं के लिए महत्वपूर्ण फैसला लिया है। शुक्रवार को  योगी कैबिनेट की बैठक में कक्षा 1 से 8 तक के पढ़ने वाले बच्चों को ड्रेस का पैसा देने का फैसला लिया गया है, जिसमें यूनीफॉर्म, स्वेटर, जूता-मोजा तथा स्कूल बैग का पैसा सीधे छात्रों और उनके अभिभावकों के खाते में दिया जाएगा। निःशुल्क यूनीफॉर्म, स्वेटर, जूता-मोजा और स्कूल बैग के लिए 1 करोड़ 60 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं के अभिभावकों के बैंक खातों में डीबीटी के माध्यम से लगभग 1800 करोड़ रुपये की धनराशि खाते में दी जाएगी।

अभिभावकों के खाते में सरकार भेजेगी पैसा

प्रदेश के परिषदीय प्राइमरी और अपर प्राइमरी स्कूलों में करीब 1 करोड़ 80 लाख बच्चे पढ़ते हैं। इन बच्चों को हर साल 2 जोड़ी यूनिफॉर्म, 1 स्कूल बैग, 1 स्वेटर, 1 सेट जूते और 2 जोड़े मोजे दिए जाते हैं। इसमें से जूते मोजे और स्वेटर बांटने की शुरुआत योगी सरकार ने ही की थी। इसमें से 2 यूनिफॉर्म के लिए 600 रुपये, स्वेटर के लिए 200 रुपये और बैग और जूते-मोजे के लिए प्रति छात्र करीब 250 से 300 रुपये का बजट रहता है। यानी एक बच्चे पर करीब 1100 रुपये का बजट। हालांकि टेंडर होने पर ये कुछ कम ज्यादा होता है लेकिन अब सरकार यही रकम अभिभावकों के खाते में भेजने जा रही है।

खातों का किया जा रहा वेरिफिकेशन

बेसिक शिक्षा विभाग इसके लिए खातों के वेरिफिकेशन की प्रक्रिया भी शुरू कर चुका है। बड़ी संख्या में इन स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों के खाते का वेरिफिकेशन भी किया जा चुका है। बचे खातों के वेरिफिकेशन की प्रक्रिया तेजी से पूरी की जा रही है।