देवस्थानम बोर्ड नहीं हुआ भंग, तीर्थ पुरोहितों में रोष, केदारनाथ में पूर्व सीएम त्रिवेंद्र, धन सिंह और मदन कौशिक का विरोध

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

चमोली: उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत रुद्रप्रयाग के दौरे पर हैं। केदारनाथ धाम पहुंचने पर तीर्थ पुरोहितों ने उनका भारी विरोध किया। विरोध के बीच ही त्रिवेंद्र रावत ने बाबा केदार के दर्शन किए। तीर्थपुरोहितों का विरोध अब भी जारी है। वहीं, मंत्री धन सिंह और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक को भी तीर्थ पुरोहितों ने घेर लिया।

चारधामों में यात्रा व्यवस्था और प्रबंधन के लिए सरकार की ओर से देवस्थानम बोर्ड का गठन किया गया था, जिसका शुरुआत से ही तीर्थ पुरोहित विरोध कर रहे। बोर्ड को भंग करने की मांग को लेकर महापंचायत ने लंबा आंदोलन भी किया था। अब एक बार फिर तीर्थ पुरोहित मुखर हो गए हैं। उन्होंने पूर्व सीएम त्रिवेंद्र के केदारनाथ पहुंचने पर विरोध किया। उनका कहना है कि त्रिवेंद्र रावत ही देवस्थानम को लाने वाले हैं।

देवस्थानम बोर्ड के विरोध में गंगोत्री बाजार रहेगा बंद

चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के विरोध में आज गंगोत्री बाजार बंद रहेगा। साथ ही तीर्थ पुरोहित भी गंगोत्री मंदिर की नियमित पूजा के अलावा अन्य तीर्थ यात्रियों के आग्रह पर होने वाली पूजा-पाठ नहीं कराएंगे। गंगोत्री मंदिर समिति के अध्यक्ष सुरेश सेमवाल ने कहा कि देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड को रद करने के बजाय सरकार अब तीर्थ पुरोहितों को भ्रमित कर रही है।