नैनीताल जिले की प्रतिष्ठित लालकुआं विधानसभा सीट, भाजपा व कांग्रेस के लिए चुनाव से पहले दावेदार का चयन होगा कठिन चुनौती

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

लालकुआं: उत्तराखंड में आगामी 2022 में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं। जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे हैं वैसे- वैसे नैनीताल जिले की प्रतिष्ठित लालकुआं विधानसभा सीट पर राजनैतिक गतिविधियां तेज होती जा रही हैं। पिछले साढ़े 4 साल से कोपभवन में रहने वाले तमाम नेता अब जनता के हिमायती होने का दम्भ भरते हुए उनके दुख-दर्द में सक्रिय होकर भागीदारी करते हुए दिखने दे रहे हैं। उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव को अब कुछ ही समय बचा है ऐसे में सभी राजनीतिक पार्टियों के नेताओं ने अपनी-अपनी विधानसभाओं से अपने-अपने तरीकों से दावेदारी भी पेश करना शुरू कर दी है। उत्तराखंड के नैनीताल जिले की प्रतिष्ठित लालकुआं विधानसभा सीट की बात करें तो यहां से विधायक बनने के लिए इनदिनों तमाम नेताओं में एक होड़ सी लगी हुई है।

सबसे पहले सत्तारूढ़ भाजपा की बात करें तो इस सीट पर पार्टी के आधा दर्जन से अधिक दावेदार चुनावी मैदान में ताल ठोकते दिखाई दे रहे हैं। जिनमें वर्तमान विधायक नवीन दुम्का के अलावा भाजपा जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट, पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष पवन चौहान, राज्य सहकारी बैंक के संचालक उमेश शर्मा, कमलेश चन्दोला, दुग्ध संघ लालकुआं के पूर्व अध्यक्ष भरत नेगी, पूर्व दर्जा राज्यमंत्री हेमंत द्विवेदी आदि शामिल हैं। इनमें प्रदीप बिष्ट व हेमंत द्विवेदी को छोड़ सभी दावेदार लालकुआं विधानसभा से ही ताल्लुक रखते हैं। बता दें कि बीतें दिनों लालकुआं के वर्तमान विधायक नवीन दुम्का ने यह आरोप लगाया था कि उनकी विधानसभा में बाहरी लोग अक्सर देखें जा रहे हैं, जो बाहर यानी लालकुआं विधानसभा क्षेत्र से बाहर दूसरे क्षेत्र के रहने वाले हैं और लालकुआं से अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि भाजपा के वर्तमान विधायक की इसी बात को मद्देनजर रख भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने लालकुआं में अपना मकान खरीद लिया और जल्द ही पूजा अर्चना कर गृह प्रवेश करने की तैयारियां हैं।

वहीं सूत्रों की माने तो भाजपा के वर्तमान विधायक नवीन दुम्का मजबूत दावेदार माने जा रहे हैं। लेकिन लालकुआं में मकान लेने के बाद उनकी पार्टी के ही एक वरिष्ठ नेता ने यह साबित कर दिया है कि अब बाहरी नहीं बल्कि स्थानीय होने के नाते वह मजबूती के साथ अपनी दावेदारी कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं का भी उन्हें वरदहस्त प्राप्त है। जिससे उनकी दावेदारी को हल्के में नहीं लिया जा सकता। इसके अलावा भाजपा के कद्दावर नेता व पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष पवन चौहान की लालकुआं विधानसभा क्षेत्र में बेहद मजबूत पकड़ है। लालकुआं विधानसभा क्षेत्र की एकमात्र नगर पंचायत के अध्यक्ष पद पर रहते हुए उनके तथा उनकी पत्नी के द्वारा क्षेत्र के विकास के लिए किए गए कार्यों की वजह से आमजनता उन्हें विधायक बनाने के लिए खुद ही उनकी पैरवी करती दिखाई दे रही है।

इधर कांग्रेस की बात की जाये तो पूर्व कैबिनेट मंत्री हरीश चंद्र दुर्गापाल, हरेन्द्र बोरा, संध्या डालाकोटी, राजेंद्र खनवाल आदि द्वारा लालकुआं विधानसभा क्षेत्र से टिकट के लिए दावेदारी की जा रही है किंतु पूर्व कैबिनेट मंत्री हरीश चंद्र दुर्गापाल इनमें सबसे मजबूत एवं जिताऊ दावेदार माने जा रहे हैं। वहीं लालकुआं विधानसभा का सबसे मजबूत गढ़ बिन्दुखत्ता के जो लोग नगर पालिका बनाये जाने को लेकर तत्कालीन विधायक व सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे हरीश दुर्गापाल के विरोध में चले गए थे। अब उन्हें भी अच्छी तरह यह एहसास हो गया कि राजस्व गांव के नाम पर उन्हें ठगा गया। इसके अलावा अपने कैबिनेट मंत्री रहते हुए लालकुआं विधानसभा क्षेत्र में कराये गए विकास कार्यों की बदौलत आमजन की चर्चाओं के मुताबिक उन्हें बेहद मजबूत दावेदार माना जा रहा है। जबकि पूर्व में लालकुआं विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ चुके हरेन्द्र बोरा की दावेदारी को भी कम करके नहीं आंका जा सकता है, वह भी लालकुआं विधानसभा क्षेत्र में काफी सक्रिय हैं।  कांग्रेस, भाजपा और आप पार्टी के नेताओं समेत कई अन्य दावेदार भी अभी से जनता से सम्पर्क साधने में लगे हुए हैं। नेताओं और कार्यकर्ताओं के रिश्तों में भी अब मिठास आने लगी है और तमाम पार्टियों के नेताओं व कार्यकर्ताओं में अब जनसमस्याओं को उठाने की एक होड़ सी लगी हुई है।

बरहाल नैनीताल जिले की प्रतिष्ठित लालकुआं विधानसभा सीट पर प्रमुख दल भाजपा और कांग्रेस में ऐसा साफ महसूस हो रहा है कि चुनावी जंग से पहले इस सीट पर दावेदारों का चयन करना इन दोनों ही राष्ट्रीय पार्टियों के लिए कठिन चुनौती साबित होगा। फिर उसके बाद टिकट बटवारे से असंतुष्ट नेताओं को रुठने मनाने का दौर शुरू होगा, तब कहीं जाकर टिकट पाने वाला नेता जनता से रूबरू हो सकेगा।

रिपोर्टर- ऐजाज हुसैन