हरीश रावत बोले “ले लूँगा राजनीति से सन्यास” ये है कारण …

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

देहरादून: जुम्मे की नमाज की छुट्टी के विवाद पर कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष पूर्व सीएम हरीश रावत ने भाजपा और केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह को बड़ी चुनौती दे दी। कहा कि यदि वो मेरे कार्यकाल में नमाज की छुट्टी का कोई आदेश, अधिसूचना दिखा दे तो वो तत्काल राजनीति से संन्यास ले लेंगे। यदि भाजपा ऐसा कुछ प्रमाणित नहीं कर पाती तो केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को अपनी गलतबयानी के लिए सार्वजनिक रूप से खेद जताना होगा।

रावत ने डेनिश शराब को लेकर भी भाजपा पर दुष्प्रचार करने का आरोप लगाया है। रावत ने सोशल मीडिया के जरिये भाजपा और शाह से कई गंभीर सवाल पूछे। बकौल रावत, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मुझे चुनौती दे डाली है कि भाजपा के विकास कार्य बनाम कांग्रेस के विकास कार्यों की। मैं शाह जी की चुनौती स्वीकार करने के लिए बलशाली नहीं मानता हूं।

मगर फिर भी यदि उनका आदेश होगा तो मैं कहीं भी बहस के लिए, चाहे किसी टेलीविजन शो पर हो या आमने-सामने मंच लगाकर किसी मैदान में हो, मैं तैयार हूं। मुझसे जो सवाल करने हों, मैं उन सवालों का उत्तर दूंगा और जो काम हमने किये उनका वर्णन करूंगा। मैं शाह जी का आदर करता हूंँ, उनसे आमने-सामने खड़े होकर के यह नहीं कहूंगा कि आपने ये क्यों नहीं किया, वो क्यों नहीं किया। अपने से बड़े पद पर प्रतिष्ठित व्यक्ति से सवाल करना मेरी समझ में नहीं है।