पीएम मोदी के दौरे का कांग्रेस ने किया विरोध, पूरे उत्तराखंड मे, कांग्रेसियों ने मंदिरों में गाए भजन, शिवालयों मे किया जलाभिषेक

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

देहरादून: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के केदारनाथ दौरे का कांग्रेस ने शुक्रवार को अनूठे ढंग से विरोध किया। कांग्रेसजन ने प्रदेश भर में शिवालयों में जलाभिषेक कर कीर्तन किया। कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष पूर्व सीएम हरीश रावत ने हरिद्वार, प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने दून में मालदेवता मंदिर और नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने सहारनुर चौक स्थित पृथ्वीनाथ मंदिर में जलाभिषेक किया। भगवान शिव से कामना की कि वो जगत के प्रत्येक व्यक्ति को सदबुद्धि दें और सुख-शांति-खुशहाली का आशीर्वाद दें। सुबह गोदियाल कार्यकर्ताओं के साथ जुलूस की शक्ल में कीर्तन करते हुए शिव मंदिर पहुंचे। वहां विधि विधान के साथ जलाभिषेक किया। इस दौरान मथुरादत्त जोशी, जोत सिंह बिष्ट, प्रभुलाल बहुगुणा, महेंद्र प्रताप, प्रदेश सचिव शांति रावत, राजेश चमोली, जितेंद्र बिष्ट आदि भी मौजूद रहे।

नेता प्रतिपक्ष भी सुबह कार्यकर्ताओं के साथ पौराणिक श्री पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर पहुंचे। वहां अन्य श्रद्धालुओं के साथ उन्होंने भगवान शिव का जलाभिषके किया। प्रदेश की सुख शांति की प्रार्थना के साथ ही कोविड-19 के शांत होने की प्रार्थना की गई। कांग्रेसजन ने कोविड-19 के दौरान मौत का शिकार बने लोगों, सेवा करते हुए प्राणों का बलिदान करने वाले कोरोना योद्धाओं और देश-प्रदेश के अमर शहीदों, राज्य आंदोलन के शहीदों की आत्मा की शांति की प्रार्थना भी की। इस दौरान एससी प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष पूर्व विधायक राजकुमार, महानगर अध्यक्ष लालचंद शर्मा, अवधेश पंत, दिनेश गुप्ता, संजय कनौजिया, नागेश रतूड़ी, अरुण शर्मा, राहुल शर्मा, विकास नेगी, विनोद गोयल, सोम प्रकाश शर्मा, राकेश भंडारी, नवीन गुप्ता, विक्की गोयल, एडवोकेट राजकुमार गुप्ता, दीपक मित्तल, संजय गर्ग आदि भी मौजूद रहे।

प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा, ‘भगवान शिव परमशक्ति हैं। हम सभी कांग्रेसजन उनसे प्रार्थना करते हैं कि वो प्रत्येक जीव को सदबुद्धि दें। साथ ही प्रदेश की खुशहाली, सुखशांति की कामना भी करते हैं।’ नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने कहा, ‘भगवान शिव से प्रार्थना करते हैं कि वो सभी लोगों को सदबुद्धि दें। रही बात मोदी जी के केदारनाथ यात्रा की तो वो केवल और केवल राजनीतिक यात्रा थी। उम्मीद थी कि मोदी जी प्राकृतिक आपदा से जूझ रहे उत्तराखंड को कोई आर्थिक पैकेज की भी घोषणा भी करेंगे, लेकिन लोगों को निराशा ही मिली।’