May 29, 2024 7:56 am

दिल्ली के दो प्राइवेट हॉस्पिटल में RAID: किडनी-कैंसर की 8 करोड़ की नकली दवाइयां सीज, देहरादून में चल रहीं थीं 3 फैक्ट्रियां

नई दिल्लीः दिल्ली क्राइम ब्रांच और दिल्ली ड्रग कंट्रोल डिपार्टमेंट ने दिल्ली के दो बड़े नामी निजी अस्पताल में छापा मारकर 8 करोड़ की नकली दवाइयां जब्त की हैं. इस मामले के तार देश के अलग-अलग हिस्सों में जुड़े होने की आशंका जताई गई है.

राजधानी दिल्ली के दो निजी और नामी अस्पतालों में नकली दवाइयां मिलने से हड़कंप मच गया. दरअसल, क्राइम ब्रांच और दिल्ली ड्रग कंट्रोल डिपार्टमेंट ने इन दोनों अस्पताल में छापा मारा और लगभग 8 करोड़ की दवाइयां जब्त की. इस मामले में कई और अस्पताल के शामिल होने की संभावना जताई गई है.

क्राइम ब्रांच से मिली जानकारी के अनुसार, क्राइम ब्रांच की टीम को इस मामले में सूचना मिली थी, जिसके बाद उस जानकारी को ड्रग कंट्रोल डिपार्टमेंट को भी दिया गया और फिर पूरी योजना बनाकर सोमवार को सेंट्रल दिल्ली और ईस्ट दिल्ली के दो नामी अस्पतालों में छापा मारा गया. जानकारी के अनुसार, हैरान करने वाली बात यह है कि इन नकली दवाइयों में कैंसर, डायबिटीज और किडनी की दवाइयां शामिल हैं.

नकली दवा बनाने की चल रही फैक्ट्री
इन दोनों नामी निजी अस्पताल में छापेमारी के बाद टीम को तीन अलग-अलग शहर में फैक्ट्री का पता चल जहां दवाइयां बनती थी और वहां से सप्लाई की जाती थी. देहरादून की तीन फैक्ट्री में छापेमारी की गई तो वहां से 8 करोड़ की दवाइयां जब्त की गई. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, देहरादून में जहां तीन फैक्ट्री का पता चला है. वहीं, गाजियाबाद अमृतसर में भी दो फैक्ट्रियों की जानकारी सामने आई है.

क्राइम ब्रांच सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, अब टीम गाजियाबाद और अमृतसर की फैक्ट्री में छापेमारी की योजना बना रही है. यह बात भी सामने आई है कि काफी लंबे समय से अस्पतालों में इन फैक्ट्री द्वारा नकली दवाइयां की सप्लाई की जा रही थी. सारे सैंपल्स को एफएसएल जांच के लिए भेज दिया गया है और आशंका यह जताई जा रही है कि इस नकली दवाइयां के तार देश के कई हिस्सों में फैला हुआ है.

इससे पहले दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच और ड्रग कंट्रोल डिपार्टमेंट ने बीते गुरुवार को भागीरथ पैलेस और दरियागंज इलाके में दवा की दुकानों पर छापेमारी की थी और यहां से काफी मात्रा में नकली दवाइयां पकड़ी थीं. साथ ही, दवाइयों का होलसेल बिजनेस करने वाले तीन लोगों को गिरफ्तार किया था. उन्हें रिमांड पर लेकर पूछताछ की गई थी. पूछताछ में ही टीम को देहरादून गाजियाबाद और अमृतसर की फैक्ट्री का पता चला.