May 29, 2024 6:49 am

ज्योतिषी तोते ने बताया इस चुनाव में किसकी हो रही जीत, मालिक को पकड़ ले गई पुलिस…

कुड्डालोर: तमिलनाडु के कुड्डालोर निर्वाचन क्षेत्र में हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. यहां पुलिस ने एक तोते को गिरफ्तार कर लिया. दरअसल, लोगों का भविष्य बताने वाले इस तोते (astrologer parrot) ने चुनाव लड़ रहे पीएमके उम्मीदवार की जीत की भविष्यवाणी कर दी थी. इसका वीडियो सामने आया तो मामला पुलिस तक पहुंच गया, जिसके बाद पुलिस ने तोते को कुछ देर के लिए गिरफ्तार कर लिया. तोते के मालिक को कैद में न रखने की चेतावनी के साथ छोड़ दिया.

जानकारी के अनुसार, फिल्म निर्देशक थंकर बचन पीएमके यानी पट्टाली मक्कल काची पार्टी से कुड्डालोर निर्वाचन क्षेत्र से उम्मीदवार हैं. थंकर बचन रविवार को निर्वाचन क्षेत्र में निकले थे. इस दौरान वे एक फेमस मंदिर के पास से गुजरे. मंदिर के बाहर एक ज्योतिषी पिंजरे में तोते (astrologer parrot) को लेकर बैठा था. ये तोता सामने रखे कार्ड को चुनकर लोगों का भविष्य बता रहा था. थंकर बचन भी अपना भविष्य जानने तोते के पास पहुंच गए. इस दौरान उनके समर्थक भी मौजूद थे.

तोता पिंजरे में बंद था, उसे बाहर निकाला गया, इसके बाद उसके सामने कई कार्ड रखे गए. इन कार्डों में से किसी एक को चुनना था. तोते ने एक कार्ड को अपनी चोंच से उठाकर अलग रख दिया. कार्ड पर पर उस मंदिर के मुख्य देवता की तस्वीर थी. कार्ड को देखकर तोते के मालिक ने घोषणा थंकर बचन से कहा कि उन्हें सफलता जरूर मिलेगी.

भविष्यवाणी से खुश होकर पीएमके उम्मीदवार ने तोते को खाने के लिए केला दिए. इस पूरे मामले का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. इसके बाद तोते के मालिक ज्योतिषी सेल्वराज और उनके भाई को कुछ देर के लिए पुलिस ने पकड़ लिया. बाद में तोते को कैद में रखने को लेकर वन विभाग ने चेतावनी दी और फिर छोड़ दिया गया. तोते के मालिक के पास और भी कुछ तोते मिले, जिन्हें वन क्षेत्र में छोड़ दिया गया. इस कार्रवाई के बाद पीएमके नेताओं ने डीएमके सरकार पर निशाना साधा.

पुलिस की कार्रवाई को लेकर पीएमके ने सरकार पर साधा निशाना

पीएमके अध्यक्ष डॉ. अंबुमणि रामदास ने कहा कि द्रमुक सरकार ने ये कार्रवाई इसलिए की है, क्योंकि उन्हें अपनी हार की बात सहन नहीं हो रही है. तोते ने कुड्डालोर निर्वाचन क्षेत्र से निर्देशक थांगर बचन की जीत की भविष्यवाणी की थी. इस कार्रवाई की निंदा की जानी चाहिए. जो द्रमुक सरकार तोते की भविष्यवाणी को भी बर्दाश्त नहीं कर सकी, आगे उसका हाल क्या होगा?