January 26, 2023 10:37 pm

बूढ़े होंगे फिर से जवान ? हार्वर्ड के वैज्ञानिकों ने ‘उम्र को पलटने’ में पाई कामयाबी !

न्यूज़ डेस्क: अभी तक माना जाता था कि कोशिकाएं सुस्त होने पर उम्र का असर दिखना शुरू हो जाता है, लेकिन अब वैज्ञानिक इससे इनकार कर रहे हैं। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के नए शोध ने पुराने और कमजोर नजर वाले चूहों को फिर से जीवंत करने में सफलता हासिल की है। इस प्रक्रिया को उल्टा भी किया जा सकता है, यानी समय से पहले बुढ़ापा आने के संकेत। बाजार दुनिया भर के सौंदर्य प्रसाधनों और कैप्सूलों से भरा पड़ा है, जो लोगों को दिनों में जवां दिखाने का दावा करते हैं। हालांकि, उनका असर खास नहीं रहा। युवाओं की फुर्ती को बुजुर्गों तक पहुंचाने के लिए वैज्ञानिक लंबे समय से प्रयोग कर रहे हैं, जिसमें अब सफलता मिलती दिख रही है। हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों के इस शोध पर भरोसा किया जाए तो शायद कुछ समय बाद 50 साल का व्यक्ति खुद को 30 साल के युवा जितना ही मजबूत और टाइट महसूस करेगा। जानिए, क्या है उम्र को पीछे मोड़ने से जुड़ी ये रिसर्च।

बोस्टन की प्रयोगशालाओं में, पुराने और कमजोर दृष्टि वाले चूहों को अधिक स्वस्थ और मजबूत चूहों में बदल दिया गया, यहां तक कि उम्र से संबंधित दृष्टि हानि से उबरने के बाद भी। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल और बोस्टन यूनिवर्सिटी का यह संयुक्त शोध साइंटिफिक जर्नल सेल में प्रकाशित हुआ है। इस बारे में शोधकर्ता डेविड सिंक्लेयर ने स्पष्ट रूप से कहा कि उम्र एक उलटी प्रक्रिया है, जिसमें हेरफेर किया जा सकता है।

सेल में प्रकाशित इस शोध का शीर्षक लॉस ऑफ एपिजेनेटिक इंफॉर्मेशन ऐज ए कॉज ऑफ मैमेलियन एजिंग है। लैब चूहों पर किए गए इस प्रयोग से साफ पता चला कि उम्र बढ़ने को उलटा और जवान बनाया जा सकता है। हैरान करने वाली बात यह थी कि बढ़त न सिर्फ पीछे जाती है, बल्कि इसे बढ़ाया भी जा सकता है। अर्थात किसी को समय से पहले बड़ा या बूढ़ा कर देना।

शोध इस अवधारणा पर शुरू हुआ कि शरीर के पास अपने यौवन की एक बैकअप कॉपी होती है। यदि यह प्रति ट्रिगर हो जाती है, तो कोशिकाएं पुन: उत्पन्न होने लगेंगी और उम्र उलटने लगेगी। प्रयोग ने इस धारणा को भी खारिज कर दिया कि उम्र बढ़ने आनुवंशिक उत्परिवर्तन का परिणाम है जो डीएनए को कमजोर करता है। या कमजोर कोशिकाएं समय के साथ शरीर को कमजोर कर देती हैं।

शोधकर्ता सिंक्लेयर का मानना था कि उम्र बढ़ना वास्तव में कोशिकाओं द्वारा अपने स्वयं के डीएनए को ठीक से पढ़ने में सक्षम नहीं होने का परिणाम है। यह बिल्कुल वैसा ही है, जब पुराने और ढीले पुर्जों वाली मशीन का सॉफ्टवेयर करप्ट हो जाता है।

लगभग एक साल के शोध के दौरान, मानव वयस्क त्वचा कोशिकाओं को पुराने और दृष्टिबाधित चूहों में इंजेक्ट किया गया, जिससे कुछ ही दिनों में उनकी दृष्टि बहाल हो गई। इसके बाद दिमाग, मांसपेशियों और किडनी की कोशिकाओं को भी पहले से कम उम्र में लाया जा सका। हालांकि इस शोध में नमूना क्षेत्र बहुत बड़ा नहीं था, जो लगभग एक वर्ष तक चला, यानी शोध एक बहुत छोटे समूह पर किया गया था, इसलिए हालांकि वैज्ञानिक उत्साहित हैं, वे इस समय निश्चित नहीं हैं कि यह प्रक्रिया होगी मनुष्यों पर उतना ही प्रभावी।

ऐसा ही दावा कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने अप्रैल 2022 में किया था। उनका दावा और भी स्पष्ट था, जिसके मुताबिक एक खास तरीके से उम्र को 30 साल पीछे किया जा सकता है. अनुसंधान ने त्वचा कोशिकाओं को पुन: क्रमादेशित किया है ताकि वे वर्षों को पीछे कर सकें। यह उम्र बढ़ने वाली कोशिकाओं की कोलेजन का उत्पादन करने की क्षमता को बढ़ाता है, प्रोटीन जो शरीर को मजबूत और युवा रखता है। मानव कोशिकाओं के बहु-ओमिक कायाकल्प नामक शोध, पत्रिका ईलाइफ में प्रकाशित हुआ था। शोध के बारे में अधिक जानकारी सार्वजनिक डोमेन में नहीं है, इसके अलावा कि इसमें कितने लोग शामिल हैं।